योगी सरकार का उत्तर प्रदेश को ‘अपराध मुक्त प्रदेश’ बनाने का दावा भी एक जुमला साबित हुआ। ऐसा इसलिए क्योंकि प्रदेश में अपराध थमने का नाम नहीं ले रहा है। पिछले दिनों झांसी में पुलिस एनकाउंटर में मारे गए पुष्पेंद्र यादव की हत्या और बस्ती में बीजेपी नेता की हत्या के बाद आज कुशीनगर में एक पत्रकार की गला रेतकर हत्या कर दी गई।

अब इस मामले पर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा- ये राम राज्य नहीं है, ये नाथूराम राज्य है

अखिलेश ने कहा कि पुष्पेंद्र यादव का फेक एनकाउंटर हुआ, नौजवान की झांसी पुलिस ने हत्या की है। देश की सेवा करने वाले मृतक के भाई को मुजरिम बनाया गया, प्रदेश सरकार इस मामले में इंसाफ करे।

इसके बाद अखिलेश ने कहा कि अगर 2022 में सपा सरकार बनी तो पुष्पेंद्र यादव एनकाउंटर कांड की दोबारा जांच होगी। जांच कराकर एनकाउंटर कांड के दोषी अफसरों, पुलिसकर्मियों को जेल भेजा जाएगा। अखिलेश ने कहा कि मेरी भाजपा सरकार और उनके अफसरों को धमकी और चेतावनी भी है।

गौरतलब हो कि बीते शनिवार (5 अक्टूबर) की रात पुष्पेंद्र पुलिस मुठभेड़ में मारा गया था। इस मामले पर पुलिस का कहना है था कि पुष्पेंद्र पर पुलिस ने गोली जवाबी कार्रवाई में चलाई थी। हालांकि सूत्रों की मानें तो पुलिस ने पुष्पेंद्र को इसलिए गोली मारी क्योंकि उसने ड्यूटी पर तैनात इंस्पेक्टर धर्मेंद्र सिंह चौहान को वसूली देने से इनकार कर दिया था।

बता दें कि बुधवार को अखिलेश यादव अपने समर्थकों के साथ करगुआ गांव पहुंचे थे। जहाँ उन्होंने पुष्पेंद्र यादव के परिजनों से मुलाकात करते हुए उन्हें इंसाफ दिलाने की बात कही थी। इसके बाद अखिलेश ने पुष्पेंद्र के परिवार से वादा किया कि समाजवादी पार्टी उनके साथ खड़ी रहेगी।