केंद्र में सत्तारूढ़ मोदी सरकार के राज में देश में मौजूद सरकारी संस्थाओं का निजीकरण किया जा रहा है। जिसे लेकर मोदी सरकार विपक्षी दलों के निशाने पर है।

दरअसल मोदी सरकार देश की सरकारी संस्थाओं का निजीकरण कर देश के चंद पूंजीवादी करीबियों को फायदा पहुंचाने में लगी हुई है। जिनमें अंबानी और अडानी जैसे कारोबारी शामिल हैं।

खुद को गरीबों का मसीहा बताने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में गरीब और गरीब होता जा रहा है। जबकि पूंजीवादियों की चांदी हो रही है।

क्योंकि यह सरकार गरीबों के हक के लिए नहीं बल्कि अमीरों को फायदा पहुंचाने के लिए चलाई जा रही है। विपक्षी दलों ने कई बार मोदी सरकार पर देश को बेच देने का आरोप लगाया है।

रेलवे में निजीकरण के तहत स्टेशन बनाए जाने और प्राइवेट ट्रेनें चलाए जाने की तैयारियां हो चुकी हैं। देश की इकलौती सरकारी टेलीकॉम कंपनी बीएसएनएल बिकने के कगार पर हैं।

देश की इकलौती सरकारी एयरलाइन एयर इंडिया के निजीकरण को लेकर भी तैयारियां की जा रही हैं।

इस मामले में आम आदमी पार्टी के नेता और सांसद भगवंत मान ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने देश में सरकारी संस्थाओं के निजीकरण को लेकर सोशल मीडिया पर भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोला है।

आप नेता भगवंत मान ने ट्वीट कर लिखा है कि “लोग ऐसे ही बोल रहे हैं कि साहब ने रेलवे बेच दिया, एयरपोर्ट बेच दिए, LIC बेच दी, बैंक बेच दिए, BSNL बेच दिया, लाल किला बेच रहे हैं वगैरा वगैरा.. उनको कौन समझाए कि भाई साहब… चुनाव आयोग, सी बी आई, गोदी मीडिया, नीति आयोग, फेसबुक और कई राज्यों के विधायक खरीदे भी तो हैं.. याद रखो”

आपको बता दें कि भाजपा के हाथों में बिक चुके गोदी मीडिया ने जनता को सच्चाई न दिखाने की कसम खाई है। पैसों के लालच में बिक चुका ये मीडिया भी गरीब लोगों की आवाज़ दबाने में लगा हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

10 + 3 =