अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के नाम पर देशभर में ठगी का गोरखधंधा शुरु हो गया है। उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद के बाद अब छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में राम मंदिर निर्माण के लिए निधि कलेक्शन के नाम पर ठगी का मामला सामने आया है।

यहां एक महिला को राम मंदिर निर्माण की फर्ज़ी रसीद छपवाकर चंदा वसूलने के आरोप में पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

गिरफ्तार की गई महिला का नाम उषा आफले है, जो सोशल मीडिया पर ख़ुद को कट्टर हिंदू बताती है।

महिला की सोशल मीडिया प्रोफाइल देखकर पता चलता है कि वह रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ़ अर्नब गोस्वामी की बड़ी फैन है। वह अर्नब के समर्थन में विशाल मशाल जुलूस भी निकाल चुकी है।

दैनिक भास्कर में छपी ख़बर के मुताबिक, श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र निधि समर्पण समिति अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए चंदे के ज़रिए पैसा इकट्ठा कर रही है।

समिति के पदाधिकारियों को पता चला कि बिलासपुर में एक महिला उषा आफले भी राम मंदिर निर्माण के नाम पर निधि कलेक्शन कर रही है। जबकि वह समिति और मंदिर प्रबंधन से नहीं जुड़ी है।

उषा पर आरोप है कि उसने फर्जी रसीद छपवा ली और निधि संग्रह करना शुरू कर दिया। समिति के अध्यक्ष डॉ. ललित मखीजा और संयोजक संदीप गुप्ता ने पुलिस को बताया कि निधि संग्रह के लिए वैधानिक रसीद और कूपन प्रत्येक दानदाता को दी जा रही है।

उषा आफले ने निजी रसीद छपवा कर निजी एकाउंट में रुपए ट्रांसफर कराए हैं।

मखीजा ने बताया कि उन्हें इस बात की जानकारी फेसबुक और वॉट्सऐप के ज़रिए मिली। उन्होंने बताया कि उषा ने इसके ज़रिए कई लोगों को ठगा है। उन्होंने पुलिस से इस संबंध में कार्रवाई की मांग की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ten + fourteen =