देश में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामलों की वजह से चिंताजनक स्थिति बनी हुई है। जहां कई राज्य यह शिकायत कर रहे हैं कि कोरोना वैक्सीन उन्हें पर्याप्त मात्रा में नहीं मिल पा रही है।

वहीं अब मोदी सरकार द्वारा शुरू किए गए पीएम केयर्स फंड से अस्पतालों में लगाए गए वेंटिलेटर भी खराब हो रहे हैं।

अब तक कई राज्यों के सरकारी अस्पतालों से यह खबर सामने आ चुकी है कि कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए लगाए गए वेंटिलेटर सही से काम नहीं कर रहे हैं।

इसी बीच राजस्थान के जोधपुर से खबर सामने आई है कि वहां के मथुरादास माथुर अस्पताल को सरकार द्वारा दिए गए 100 वेंटिलेटर काम नहीं कर रहे हैं।

राजस्थान में भी कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। ऐसे में जब अस्पतालों में मरीजों के इलाज के लिए वेंटिलेटर का इस्तेमाल किया जाना था। तो ये सामने आया कि 100 वेंटिलेटर खराब है।

अस्पताल के डॉक्टरों द्वारा अस्पताल अधीक्षक को इस मामले में पत्र लिखकर जानकारी दी गई है कि 100 वेंटिलेटर के साथ दिए जाने वाले यूपीएस और अन्य पार्ट्स अभी तक नहीं मिले हैं। जिस वजह से वेंटिलेटर खराब हो गए हैं।

बताया जाता है कि इस वक्त जोधपुर के मथुरादास माथुर अस्पताल में 208 वेंटिलेटर हैं। जिनमें से 100 वेंटिलेटर खराब हो जाने की वजह से इस वक्त सिर्फ 108 ही काम कर रहे हैं।

इन्हीं के सहारे मरीजों का इलाज किया जा रहा है। वेंटिलेटर के साथ-साथ अस्पताल में ऑक्सीजन सेंसर भी सही से काम नहीं कर रहे हैं।

इस मामले में जिन कंपनियों द्वारा वेंटिलेटर बनाए गए हैं। उन्हें भी सूचित कर इसे सही करने के लिए कह दिया गया है। क्योंकि राज्य में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामलों के बीच अब अस्पतालों में वेंटीलेटर की सबसे ज्यादा जरूरत पड़ रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × 1 =