लोकसभा चुनाव 2019 के आखिरी चरण का चुनावी प्रचार शुक्रवार को खत्म हो गया। इसके साथ ही वो घड़ी भी आ गई जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पांच साल में पहली बार प्रेस कांफ्रेंस की। इस घड़ी का देश की जनता और मीडिया को बेसब्री से इंतजार था। लेकिन इस दौरान पीएम ने पत्रकारों से एक भी सवाल नहीं लिया!

ऐसा नहीं था कि पत्रकारों ने पीएम मोदी से सवाल नहीं पूछा। बीजेपी मुख्यालय में हुई इस प्रेस कांफ्रेंस में कई पत्रकारों ने पीएम से सवाल किए लेकिन उसका सामना बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने अपने पास ही रोक लिए और जवाब दिया।

मोदी के पहली बार किसी प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल होने पर पत्रकार ओम थानवी ने सोशल मीडिया पर लिखा, प्रधानमंत्री पहली बार मीडिया के सामने आए, मगर सवाल अमित शाह की ओर खिसका गए। फिर भी चेहरा लटका दीखा, गर्दन झुकी हुई। किस बात का भय सताने लगा कि मायूस-से बिना तैयारी मीडिया के सामने आ बैठे?

आज PM मोदी ने एक भी सवाल नहीं लिया और इसी के साथ उन्होंने PC नहीं करने का रिकॉर्ड कायम रखा

अमित शाह बोले कथित साध्वी प्रज्ञा सिंह को खड़ा करना भाजपा का “सत्याग्रह” है! सत्याग्रह के मसीहा गांधीजी का इससे बड़ा अपमान और क्या होगा? पार्टी का यह बचाव दूसरे शब्दों में यों कहना है कि फ़िलहाल गोडसेभक्त प्रज्ञा की लाइन हमारी लाइन है। बाक़ी नतीजा आने पर देखेंगे।

उन्होंने आगे लिखा- पत्रकार वार्ता में क्या किसी ने प्रधानमंत्री को पूछा कि आप हमसे यों पहली दफ़ा मुख़ातिब हैं, फिर भी चुप क्यों हैं? जवाब नहीं देने थे तो आए क्यों? अमित शाह ने कहा कि हम पाँच साल में बस मीडिया को अपनी ओर न कर सके। यह कहने की ज़रूरत न थी। मीडिया सामने ख़ुद उजागर था।

  • ओम थानवी