गिरीश मालवीय

रामदेव पर तो मुकदमा तो बाद में ठोकिएगा सबसे पहली फुर्सत में उन तमाम न्यूज़ चैनलों पर मुकदमा ठोकिए जो रामदेव की कोरोनिल लॉन्च का सीधा प्रसारण कर रहे थे और रामदेव की चार सौ बीसी में सबसे बड़े सहयोगी बने हुए थे।

उत्तराखंड आयुर्वेद विभाग द्वारा दिये गए नोटिस में पतंजलि ने कुबूल किया है कि उसकी ओर से कोरोना खत्म करने की कोई दवा बनाने का दावा नही किया गया।

कंपनी का तो यहाँ तक कहना है कि पतंजलि ने कोरोना किट की पैकिंग भी नहीं की है। कोरोनिल की किट पर कोरोना वायरस का जो फ़ोटो है वह सिर्फ प्रतीकात्मक रूप में लगाया गया है।

लेकिन लॉन्च वाले दिन तमाम न्यूज़ चैनल बाबा रामदेव के झूठ का प्रचार प्रसार करते रहे कि रामदेव ने कोरोनिल दवा कोरोना के इलाज के लिए बनाई है एबीपी न्यूज़ वाला तो एक कदम आगे बढ़कर कोरोनिल को कोरोना की वैक्सीन बता रहा था ऐसी झूठी दवा के लॉन्च का लाइव प्रसारण कर रहा था।

मित्र बताते हैं कि इंडिया टीवी तो उस दिन दवाई का डीलर बना हुआ था पूरे दिन वह बताता रहा कि इस फर्जी दवा को आप एक बोगस एप्प के जरिये खरीद सकते NDTV ने भी रामदेव की छवि चमकाने का ठेका ले रखा था।

आज पूरा झूठ पकड़ा गया है तो इन चैनलों के पास एक मिनट भी नही है कि एक बार कह दे कि बाबा आयुर्वेद के नाम पर फर्जीवाड़ा कर रहा था, लेकिन कोरोनिल लॉन्च के 2 दिन पहले से बाबा की ब्रांडिंग करने के लिए ये तमाम न्यूज़ चैनल आधे आधे घण्टे के प्रोग्राम दिखा रहे थे।

लोग हमेशा पूछते है कि आप मीडिया के खिलाफ क्यो लिखते हो दरअसल सच तो यह है कि इस देश को बर्बाद करने में मीडिया का जितना बड़ा रोल है उतना तो किसी का भी नही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three × 2 =