kapil mishra
Kapil Mishra
  • 10.9K
    Shares

अगर कपिल मिश्रा पर कार्रवाई नहीं करनी है तो फिर उन्हें दिल्ली पुलिस समेत तीनों सेनाओं का प्रमुख ही बना दिया जाए। नंगा नाचना ही है तो खुलकर नाचिए न सर!

अब जनता को जुटाकर प्रदर्शन रोकना, पुलिस को धमकी देना, प्रदर्शन कर रहे लोगों पर हमला करना, कानून व्यवस्था देखना ये सब कपिल मिश्रा का ही काम है। वही तय करेंगे कि कौन प्रदर्शन करे और कौन न करे। घोषणा कर दीजिए कि कानून व्यवस्था, अदालत, केंद्र सरकार और दिल्ली पुलिस कपिल मिश्रा की दासी है। जनता भी क्यों भरम में रहे?

दिल्लीवालों, तुमने उन्हें ‘चुनाव’ में हराया, इसलिए वो तुम्हारा ‘शहर’ जला रहे हैं : पंखुड़ी पाठक

कपिल मिश्रा का 4 दिनों से विरोध हो रहा है लेकिन उनकी भूमिका पर अंकुश नहीं लगाया गया। वह ट्विटर पर सहानुभूति बटोर रहा है। हाईकोर्ट में आधी रात को सुनवाई हुई, अभी फिर हो रही है, कोर्ट उस​की भूमिका को लेकर पुलिस को फटकार लगा रहा है।

आप MLA बोले- दंगाई आग लगा रहे हैं, अधिकारी फ़ोन नहीं उठा रहे हैं, क्या ये ‘गुजरात दंगा 2.0’ है?

उसी की पार्टी के दो दो नेता कह रहे हैं कि उस पर कार्रवाई हो, लेकिन पांच पांच घंटे लंबा भाषण देने वाले मुंह में मलाई दबाए मौन हैं और खून खराबा देखकर आह्लादित हो रहे हैं।

अब कपिल मिश्रा का कैरियर चमकेगा, जैसे गुजरात और मुजफ्फरनगर के आरोपियों का चमका। जेड सिक्योरिटी पाएगा और मंतरी बनेगा। दुखद तो यह है कि लोगों की आंख में मांस उग आया है, उन्हें सही गलत समझ मे नहीं आ रहा है।

( ये लेख कृष्णकांत के फेसबुक वॉल से साभार लिया गया है )

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here