• 24K
    Shares
महेंद्र यादव

अमेरिका के “राष्ट्रवादी” लोग श्वेत पुलिसकर्मी डेरेक चाउविन द्वारा अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के बाद होस्टाइल (अमैत्रिक) हो गए हैं, ट्रंप का सारा खेल पलट गया है, दोबारा चुना जाना तो दूर की बात है, फिलहाल बंकर में छिपने की खबर आ रही है,

डेरेक चाउविन के पक्ष में कोई भी पोस्टर नहीं लगा रहा कि हमारा चाउविन निर्दोष है,

अभी तक एक भी श्वेत ऐसा सामने नहीं आया है जो अश्वेतों द्वारा किए गए किसी अपराध का जिक्र करके, फ्लॉयड की हत्या को जायज़ ठहरा रहा हो,

हत्यारे डेरेक की पत्नी ने उसे तलाक देने का ऐलान कर दिया है, सब उसे कड़ी सजा देने की मांग कर रहे हैं, व्हाइट हाउस का घेराव हो रहा है,

कोरोना का डर पीछे छूट गया है,

इंसानियत और नागरिक अधिकारों को बचाना ज्यादा जरूरी लग रहा है, खास बात ये है कि डेरेक को कड़ा सजा देने की मांग करने वालों में श्वेत लोग ही ज्यादा हैं, जॉर्ज फ्लॉयड की जान नहीं बचाई जा सकी, लेकिन श्वेत अमेरिकियों ने इंसानियत तो बचा ही ली,

डेरेक चाउविन नौकरी से निकाला जा चुका है, २५ + १० = ३५ साल की सजा होना भी तकरीबन तय ही है,

दूसरी ओर, ऐसा मुल्क भी है जहां जाति पूछकर गोली मारने वाला शान से नौकरी करता है, इंस्पेक्टर से लेकर आम नागरिकों की मॉबलिंचिंग करने वालों को मंत्री माला पहना कर सम्मानित करते हैं,

हां, “खास परिस्थितियों” में एक करोड़ का मुआवज़ा और हत्या के संदेह के घेरे में आ रही मृतक की पत्नी को क्लीन चिट देते हुए क्लास वन की नौकरी दे दी जाती है..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here