• 15.5K
    Shares
सौमित्र रॉय

दिल्ली पुलिस ने एक अदालत में दाखिल अपने आरोपपत्र में कहा है कि फरवरी में उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुए दंगों के दौरान कुछ दंगाई व्हाट्सएप ग्रुप के जरिए आपस में संपर्क में थे और ‘जय श्री राम’ नहीं कहने पर उन्होंने नौ मुसलमानों को मार डाला.

सभी आरोपी मुस्लिमों से ‘बदला’ लेने के लिए 25 फरवरी को बनाए गए एक व्हाट्सएप ग्रुप ‘कट्टर हिंदुत्व एकता’ से जुड़े थे. इस ग्रुप का इस्तेमाल इन लोगों ने आपस में संपर्क में रहने और एक दूसरे को लोग, हथियार और गोलाबारूद मुहैया कराने के लिए किया.

जांच के दौरान यह साबित हुआ कि 25 फरवरी की सुबह से लेकर 26 फरवरी की मध्यरात्रि तक हिंदुओं का एक समूह सक्रिय हुआ था. आरोपी जतिन शर्मा, ऋषभ चौधरी, विवेक पंचाल, लोकेश सोलंकी, पंकज शर्मा, प्रिंस, सुमित चौधरी, अंकित चौधरी और हिमांशु ठाकुर ने अन्य ज्ञात और अज्ञात दंगाइयों के साथ मिलकर भागीरथी विहार इलाके और अन्य स्थानों पर नौ मुस्लिम लोगों को मौत के घाट उतारा और कई अन्य को घायल कर दिया.

वे नाम, पता पूछकर वे लोगों को पकड़ते थे और पहचान पत्र दिखाने के लिए कहते थे. कई बार उन्हें ‘जय श्री राम’ कहने के लिए भी मजबूर किया गया.

जो लोग ‘जय श्री राम’ नहीं बोलते थे या उनकी मुस्लिम पहचान साबित होने पर, बेरहमी से उनपर हमला कर दिया जाता था और शव को भागीरथी विहार में मुख्य गंदा नाला में फेंक दिया जाता था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here