बीते साल मोदी सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों के विरोध में शुरू हुए किसान आंदोलन को 26 नवंबर 2021 को एक साल पूरा होने वाला है।

इससे पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज गुरु नानक देव जी के प्रकाश महोत्सव पर किसानों को एक बड़ा तोहफा देने का ऐलान किया है।

मोदी सरकार ने तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने और एमएसपी पर कमेटी बनाने की बात कही है।

इस मामले में भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा है कि यह किसानों की बहुत बड़ी जीत है।

अगर एक साल बाद सरकार ने किसानों की सुध ली है तो इसका श्रेय उन शहीदों को जाता है। जो इस किसान आंदोलन में शहीद हुए हैं।

किसान आंदोलन में 700 से ज्यादा किसानों ने अपनी जान गंवाई है। इसका श्रेय उन आदिवासियों, मजदूरों और किसान महिलाओं को जाता है। जो किसान आंदोलन का हिस्सा बने। वह भले ही दिल्ली गए या नहीं।

इसके साथ ही इस किसान नेता राकेश टिकैत ने यह भी कह दिया है कि भले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कृषि कानून वापस लेने का ऐलान कर दिया है।

लेकिन अभी किसान आंदोलन खत्म नहीं किया जाएगा यह चलता रहेगा। जब तक संसद में कृषि कानून वापस नहीं लिए जाते हैं।

किसान आंदोलन चलता रहेगा जब तक सरकार एमएसपी पर पूर्ण गारंटी नहीं देती और जब तक भारत सरकार किसानों से इस मुद्दे पर बातचीत नहीं करेगी।

किसान आंदोलन हम सब यूं ही चलाएंगे। आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कृषि कानून वापस लेने का फैसला लिया है तो यह किसानों के संघर्ष का नतीजा है।

इसके साथ ही उन्होंने यह तक कह दिया है कि उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बिल्कुल भी यकीन नहीं है।

उन्होंने तो देश के प्रत्येक नागरिक को 15-15 लाख देने का भी ऐलान किया था। जो कि किसी के भी बैंक अकाउंट में आज तक नहीं आए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

13 − 9 =