संसद के मानसून सत्र में किसान बिल बिना चर्चा के पास कर दिया गया है। विपक्षी राज्यसभा में वोट करने और कमेटी को भेजे जाने की मांग दोहराते रहे लेकिन सबको दरकिनार करते हुए सरकार ने बिल पास करा लिया।

किसान बिल पास होने के बाद देशभर के किसानों में भारी गुस्सा है। अपनी फसल की एमएसपी और कुछ राज्यों के किसान मंडी खत्म होने पर नाराजगी जाहिर कर रहे हैं।

किसान अपनी फसल का समर्थन मुल्य तय करने की मांग पर अड़ा है हालांकि सरकार भी बिल पास कराने के बाद बैकफुट पर नजर आ रही है।

अखबारों में बड़े-बड़े विज्ञापन जारी किए जा रहे हैं। छह मंत्री एकसाथ आकर प्रेस कॉंफ्रेंस कर रहे हैं।

बिल पास होने के बाद समर्थन मूल्य में मामूली बढोत्तरी भी की गई है। लेकिन देश का अन्नदाता कह लीजिए या किसान गुस्सा करता नजर नहीं आ रहा है। किसानों में भारी रोष है।

किसानों ने 25 सितंबर को भारत बंद का एलान किया है। पंजाब, हरियाणा में किसान काफी गुस्से में है।

25 सितंबर के भारत बंद पर सरकार की नजर होगी। कहीं ये आंदोलन एक बड़ा आंदोलन का रूप ना ले ले।

किसान आंदोलन को समर्थन देते हुए छात्र नेता कन्हैया कुमार ने एक ट्वीट किया है।

उन्होंने हैशटैग #IStandWithIndianFarmers के साथ लिखा कि, “तय करो कि किस ओर हो तुम , किसानों के साथ या बेईमानों के साथ”

उन्होंने सरकार को बेईमानी की कैटेगरी में रख दिया है। कन्हैया कुमार किसानों के साथ हैं।

आपको बता दें कि, कन्हैया कुमार सत्रहवीं लोकसभा का चुनाव बेगुसराय से लड़ चुके हैं। पूर्व में जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष भी रह चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × two =