मोदी सरकार द्वारा लाए गए किसान बिल को लेकर बीते कई दिनों से पंजाब और हरियाणा समेत देश के कई राज्यों में आंदोलन किए जा रहे हैं।

इसी के चलते केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने पंजाब के किसानों के साथ कृषि सचिव की एक बैठक बुलाई थी। लेकिन इस दौरान केंद्रीय कृषि मंत्री द्वारा ऐसी हरकत की गई कि किसान वहीं पर भड़क गए।

दरअसल केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर कृषि मंत्रालय द्वारा बुलाई गई इस बैठक में ही मौजूद नहीं थे। बैठक में केंद्रीय कृषि मंत्री की गैरमौजूदगी से नाराज किसानों ने मंत्रालय में ही हंगामा शुरू कर दिया।

इस दौरान किसानों ने मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और किसान बिल की कॉपी फाड़ डाली।

किसानों का कहना है कि केंद्रीय कृषि मंत्रालय द्वारा बुलाई गई ये बैठक बेनतीजा रही है। इसलिए वह अपना आंदोलन जारी रखेंगे।

गौरतलब है कि कि मोदी सरकार ने बीते महीने संसद के दोनों सदनों में भारी विरोध के बावजूद तीन कृषि बिल पास कर दिए हैं। जिसके खिलाफ किसानों ने राष्ट्रव्यापी बंद का आयोजन भी किया था।

इसके साथ ही पंजाब और हरियाणा में इस किसान बिल के खिलाफ आंदोलन जोरों शोरों से चल रहा है। जिसे देखते हुए सरकार ने किसान बिल के प्रावधानों पर बातचीत करने के लिए पंजाब से किसानों के प्रतिनिधिमंडल को दिल्ली बुलाया था।

किसान बिल के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों का कहना है कि इस नए कानून की आड़ में न्यूनतम समर्थम मूल्य यानी कि एमएसपी को खत्म करना चाहती है।

जिसका सीधा फायदा बड़े पूंजीपतियों को होगा और किसान उनके हाथों की कठपुतली बन कर रह जाएंगे।

किसानों का कहना है कि खुद को किसान हितेषी बताने वाली मोदी सरकार ने अपने कार्यकाल में किसानों को फायदा पहुंचाने वाला कोई भी फैसला नहीं लिया है। इस किसान बिल के बाद देशभर में किसानों की आत्महत्या के मामले और भी बढ़ जायेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

six − 6 =