• 1.3K
    Shares

यूपी में महागठबंधन बीजेपी के लिए बड़ी चुनौती के रूप में सामने आया है। अब तक के हुए सर्वे में भी सपा-बसपा-आरएलडी का गठजोड़ ने सियासी गलियारों में हलचल भी तेज है।

वहीं अब पश्चिमी यूपी के शामली में दलितों को मतदान करने से रोका गया है जबकि उनके पास पर्ची और वोटर लिस्ट में नाम भी है।

दरअसल न्यूज़ चैनल National Voice के अनुसार, शामिली के वीवी कॉलेज के बूथ संख्या 46 में दलितों को वोट देने से रोका गया है। आज भी दलितों को उनके लोकतांत्रिक अधिकारों से दूर रखने की कोशिश की जा रही है।

गौरतलब हो कि इससे पहले शामली के गांव रसूलपुर में वोट डालने को लेकर जमकर हंगामा हुआ। जिसके बाद बीएसएफ के जवानों ने कई राउंड फायरिंग की। ख़बर के मुताबिक, बीजेपी के एसएलसी विरेंद्र सिंह की अगुवाई में बीजेपी कार्यकर्ता बूथ पर पहंचे थे।

कश्मीरः EVM में नहीं दब रहा ‘कांग्रेस’ का बटन, जहां BJP कमजोर है वहीं क्यों खराब हो रही है EVM ?

कथित तौर पर यहां भाजपाइयों ने हंगामा करते हुए पथराव किया और बूथ को कैप्चर करने की कोशिश की। जिसके बाद भाजपाइयों को बूथ कैप्चर करने से रोकने के लिए वहां तैनात सुरक्षाकर्मियों को हवा में कई राउंड फायरिंग करनी पड़ी।

बता दें कि मेरठ, बिजनौर, बागपत, शामली, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर में मतदान चल रहा है। तापमान में बढ़ोतरी के साथ साथ मतदान का प्रतिशत भी बढ़ता नजर आया।