• 3
    Shares

अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में सिर्फ बहुजन समाज पार्टी के साथ गठबंधन करने से कांग्रेस को 200 सीटें मिल सकती है। ऐसा अनुमान है है कांग्रेस के विश्लेषकों का, जिनके अनुसार- ‘बसपा के साथ गठबंधन करके कांग्रेस 200 सीटें तक हासिल कर सकती है।’

इसे लेकर बसपा-कांग्रेस में वार्ता भी शुरू हो गई है। बसपा के राज्यसभा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा ने कांग्रेस के रणनीतिकार सांसद अहमद पटेल से 10 अगस्त को नई दिल्ली में मुलाकात की थी।

दरअसल बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस के बीच इससे पहले गठबंधन तो नहीं हुआ है मगर बसपा कांग्रेस को बाहर से समर्थन करती रही है। इस गठबंधन पर आखिरी फैसला कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को लेना है। क्योंकि पिछले ही महीने कांग्रेस कार्यकारिणी समिति ने 2019 और चार विधानसभा चुनावों में गठबंधन पर अंतिम फैसला लेने की जिम्मेदारी राहुल गाँधी को सौंपी थी।

कांग्रेस विश्लेषकों का कहना है कि बसपा के साथ गठबंधन करने पर यूपीए को 192 तक सीटें प्राप्त हो सकती हैं। कांग्रेस का कहना है अगर हम सपा और अन्य पार्टियाँ, जो 2014 में यूपीए का हिस्सा नहीं थी उन्हें गठबंधन में साथ लेते हैं तो सीटों की संख्या और भी बढ़ सकती है।

गौरतलब है कि बहुजन समाज पार्टी की आठ से नौ राज्यों में अच्छी पकड़ है। इसपर बसपा प्रवक्ता कहते हैं कि ‘इसमें कोई शक नहीं है बसपा की पूरे देश में पहुंचे है,और हमारी नेता मायावती जी पहले ही कह चुकी है अगर पार्टी सम्मानजनक सीटें दी जाती है तो हम पार्टी के साथ गठबंधन करेंगे।’

अब इस मामले पर कांग्रेस और बसपा के मुख्य नेताओं आखिरी फैसला लेना है। क्योंकि उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के साथ बसपा पहले गठबंधन का ऐलान कर चुकी है और अगर कांग्रेस के साथ भी गठजोड़ हो जाता है तो बीजेपी और एनडीए के लिए मुश्किल खड़ी हो सकती है।

साभार- द प्रिंट