साल 2022 में पंजाब और उत्तर प्रदेश समेत देश के 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। जिसकी तैयारियां अभी से ही शुरू हो चुकी हैं।

राजनीतिक महत्व से उत्तर प्रदेश को जीतना हर राजनीतिक दल के लिए काफी अहम माना जाता है।

इसी बीच खबर सामने आई है कि उत्तर प्रदेश कैडर के पूर्व आईएएस अधिकारी अनूप चंद्र पांडे को निर्वाचन आयुक्त का पदभार दे दिया गया है। जो कि साल 2019 में उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव पद से रिटायर हुए थे।

अनूप चंद्र पांडे से पहले चुनाव आयोग ने सुशील चंद्रा और राजीव कुमार को भी सीईसी और ईसी का पद दिया जा चुका है। यह तीनों अधिकारी ही उत्तर प्रदेश से ताल्लुक रखते हैं।

इस खबर को शेयर करते हुए पत्रकार दीपक शर्मा ने मोदी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने लिखा है कि “पहली बार चुनाव आयोग के तीनों बड़े अधिकारी। सुशील चंद्रा (CEC), राजीव कुमार (EC) और अनूपचंद्र पांडे (EC)…उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं।

अनूप पांडे तो कई साल उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव रहे।तीनों अधिकारी बीजेपी के करीबी हैं। साहेब 2022 की वाकई जबरदस्त तैयारी है!”

 

जानकारी के लिए बता दें कि सीईसी सुशील चंद्रा रिटायर्ड आईआरएस अधिकारी हैं। जबकि राजीव कुमार 1984 बैच के झारखंड कैडर के आईएएस अधिकारी थे। अब इस कड़ी में पूर्व आईएएस अधिकारी अनूप चंद्र पांडे का नाम भी जुड़ गया है।

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव इस बार भारतीय जनता पार्टी के लिए काफी चुनौतीपूर्ण माना जा रहा है। क्योंकि कोरोना महामारी में योगी सरकार के कुप्रबंधन की वजह से लोगों में भाजपा के प्रति विश्वास काफी कम हुआ है।

ऐसे में भाजपा ने अभी से ही चुनाव आयोग में अपने अधिकारियों को बिठाकर विधानसभा चुनाव जीतने का जोड़-तोड़ शुरू कर दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

20 + 9 =