भारतीय जनता पार्टी ने यह घोषणा की है कि अगर पश्चिम बंगाल में उनकी पार्टी सत्ता में आती है तो यहां के लोगों को कोरोना वैक्सीन मुफ्त में दिया जाएगा।

मालूम हो कि बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान भी भाजपा की ओर से ऐसा ही लॉलीपॉप जनता को दिया गया था। अब बारी पश्चिम बंगाल के लोगों की है।

एनडीटीवी के वरिष्ठ पत्रकार सोहित मिश्रा ने भाजपा की इस घोषणा पर चुटकी ली है। सोहित ने ट्वीटर पर पूछा है कि “सच में वैक्सीन मुफ्त दी जाएगी या फिर बिहार की जनता की तरह बंगाल की जनता के साथ भी खेला होबे”

सोहित ने भाजपा की नीयत पर सवाल उठाते हुए कहा कि वैसे भारत में यह गजब है कि जहां जीतेंगे, वहां पर मु्फ्त में देंगे और जहां पर हारेंगे वहां पर पैसे देने होंगे !

कोरोना वैक्सीन की कालाबाजारी की ओर इशारा करते हुए सोहित ने लिखा है कि मेडिकल से ज्यादा पार्टी नेताओं के पास स्टॉक होगा लेकिन कोई सवाल नहीं पूछेगा।

घोर आश्चर्य की बात है कि बात बात पर राष्ट्रवाद का ढिंढोरा पीटने वाली पार्टी कहती है कि जिस राज्य में जीतेंगे, उसी राज्य में मुुफ्त वैक्सीन देंगे और बाकी के राज्यों से वैक्सीन के पैसे लेंगे।

जिस पार्टी की केंद्र में सरकार है और जिनके कंधों पर कोरोना से लड़ने की जवाबदेही है, वही ऐसी घोषणाएं करेंगे तो कोरोना से लड़ाई कैसे संभव है?

वैसे भाजपा की पहचान चुनावी घोषणाओं से चुनाव बाद किनारा करने और उसे जुमला बताने की रही है।

बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान भी चुनाव जीतने पर मुफ्त वैक्सीनेशन का जुमला दिया गया था। बिहार में जैसे तैसे भाजपा गठबंधन की सरकार तो बन गई लेकिन मुफ्त वैक्सीनेशन का वायदा अब तक अधूरा है।

मुफ्त वैक्सीनेशन की बात कौन कहे, बिहार के अस्पतालों में ऑक्सीजन से लेकर बेड तक गायब हैं।

बिहार के बाद पश्चिम बंगाल में भाजपा ने जिस तरह मुफ्त वैक्सीनेशन की बात कही है कि उससे कहीं न कहीं केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की नीयत पर सवाल खड़ा हो गया है।चुनावी हार और जीत के नजरिए से क्या देश कोरोना की जंग जीत जाएगा !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

thirteen + fourteen =