bihar
Bihar
  • 17.9K
    Shares

कोरोना का कहर दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है और इंसान की जान की कीमत सस्ती होती जा रही है। लचर व्यवस्थाओं के चलते एक शख्स की मौत के बाद स्वास्थ्य विभाग के लोग उसके कोरोना के सैंपल की जांच करने के लिए पहुंचते हैं।

बिहार के गया में रहने वाला अर्जुन पेशे से ड्राइवर है। अर्जुन का इलाज अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कॉलेज में हो रहा था। बताया जा रहा है कि अर्जुन 5 दिनों से कोरोना के लक्षणों से पीड़ित था।

लेकिन लचर व्यवस्थाओं के चलते अर्जुन की कोरोना की जांच संभव नहीं हो सकी। जांच में देरी होने के कारण अर्जुन को अपनी जान गंवानी पड़ी। अब स्वास्थ्य विभाग के लोग उसकी चिता से कोरोना का सैंपल लेने आए हैं। बहरहाल अर्जुन के संपर्क में आए अन्य लोगों को क्वॉरेंटाइन कर दिया गया है। ताकि इस महामारी को फैलने से रोका जा सके।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बीते कुछ महीनों से भारत ही नहीं अपितु विश्व के कई देश कोरोना वायरस के चलते भयंकर महामारी से जूझ रहे हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना को महामारी घोषित कर दिया है। इटली, चीन समेत अन्य देशों में लगभग 15000 लोगों की मौत के आंकड़े अभी तक सामने आए हैं। यह आंकड़ा बेहद परेशान करने वाला है।

भारत में भी कोरोना से पीड़ित लोगों के आंकड़े लगातार बढ़ रहे हैं। देश में कई प्रदेशों की सरकार द्वारा लॉक डाउन और कर्फ्यू लगाया जा रहा है। ताकि कोरोना की भयावह स्थिति से बचा जा सके। सरकार द्वारा जनता से घरों में रहने का आह्वान किया जा रहा है और कहा जा रहा है कि जब तक बहुत जरूरी ना हो घरों से बाहर ना निकलें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here