बिहार चुनाव Bihar Election में प्रधानमंत्री मोदी की इंट्री हो चुकी है लेकिन इसपर इंट्री इतनी असरदार नहीं दिख रही है।

जिसकी एक बड़ी वजह बिहार के लोगों का गुस्सा बताया जा रहा है। लॉकडाउन Lockdown से लेकर बेरोजगारी Unemployment पर सरकार को जवाब देते नहीं बन रहा है।

2 करोड़ सालाना रोजगार की बात की थी जिसे अबतक पूरा नहीं किया गया।

फिर लॉकडाउन में पैदल चलकर आए बिहारवासियों का गुस्सा तो भाजपा BJP और सहयोगी जनता दल यूनाइटेड JDU के लिए सबसे बड़ी चिंता बना हुआ है।

आज प्रधानमंत्री मोदी ने छपरा में जनसभा को संबोधित किया। जिसमें उन्होंने छठ पूजा को लेकर बड़ा बयान दिया।

उन्होंने कहा कि, मां…तुम छठ पूजा की तैयारी करो. तुम्हारा बेटा दिल्ली में बैठा है।

इस बयान पर काफी सवाल खड़े हो गए। पहला सवाल तो प्रधानमंत्री मोदी के खुद बोले बयान पर उठ रहे ह़ै

उन्होंने हाल ही में कोरोना से लड़ने के लिए एक मंत्र दिया था। जबतक दवाई नहीं तबतक कोई ढिलाई नहीं

फिर प्रधानमंत्री चुनावी रैली में ऐसे कैसे छठ पूजा की तैयारी की बात बोल सकते हैं।

फिर दूसरा सवाल सोशल मीडिया पर लोग लॉकडाउन के दौरान का उठा रहे हैं।

इन माओं का ख्याल प्रधानमंत्री ने लॉकडाउन के दौरान क्यों नहीं रखा था। जब वह हजारों-सैकडों किलोमीटर भूखी प्यासी पैदल घर की तरफ चल रही थी।

ट्रेन की पटरी से लेकर सड़क हादसों में सैकड़ों लोग की जान चली गई। भूख प्यास से बेहाल हो गई इन माओं की याद प्रधानमंत्री को तब क्यों नहीं आई।

 

आपको बता दें कि, बिहार विधानसभा चुनाव में दूसरे चरण का मतदान 3 नवंबर को होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

2 × 4 =