बिहार में चमकी बुखार से 100 से ज्यादा मासूमों की मौत हो चुकी है और लू लगने से 150 से अधिक लोग दम तोड़ चुके है। मगर कल जब स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी चौबे केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन के साथ मुज़फ़्फ़रपुर पहुंचे तो वो थके नज़र आए। जिसका नतीजा हुआ जब हर्षवर्धन प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे तब उनके जूनियर मंत्री कई बार ऊंगते हुए भी दिखाई दिए।

इस बारे में जब आज अश्विनी चौबे से पत्रकारों ने सवाल किया तो उन्होंने कहा कि मैं मनन चिंतन भी करता हूँ ना, मैं सो नहीं रहा था। ये हाल है देश के स्वास्थ्य राज्यमंत्री का जिनको मरते बच्चे और बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था ठीक करने के बजाय ऊंगते और सोते नजर आ रहे है।

 

असल में वो नहीं सो रहे है बल्कि देश की स्वास्थ्य व्यवस्था सो रही है। जिसके खामियाजा उन बच्चों को भुगतना पड़ रहा है जो अच्छे बुरे का फर्क नहीं जानते, जो बीजेपी-जेडीयू नीतीश-मोदी गठबंधन नहीं जानते।

बता दें कि बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में इंसेफ़लाइटिस बुखार के कारण 100 से ज्यादा लोगो की जान ले ली है। बीते रविवार केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री जब मेडिकल कॉलेज में स्वास्थ्य सेवाओं का जायजा लेने पहुंचे थे। इस दौरान बच्चों के परिजनों का गुस्सा उनपर फूट पड़ा था।