• 1.4K
    Shares

उन्नाव में ज़मानत पर रिहा हुए आरोपियों द्वारा रेप पीड़िता को ज़िंदा जलाए जाने के बाद सूबे की योगी सरकार को आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। विपक्ष भी इस जघन्य घटना को लेकर सरकार पर हमलावर हो गया है। जिससे बचने के लिए योगी के मंत्री रणवेंद्र प्रताप सिंह का अटपटा बयान सामने आया है।

रणवेंद्र प्रताप सिंह ने अपनी सरकार का बचाव करते हुए कहा है कि आज के समय में भगवान राम भी राज्य को 100 प्रतिशत अपराधमुक्त नहीं कर सकते। उन्होंने न्यूज़ 18 से बात करते हुए कहा, “उन्नाव की घटना के बारे में, मैं यह स्पष्ट करना चाहूंगा कि भगवान राम 100% अपराध-मुक्त समाज की गारंटी नहीं दे सकते। हालाँकि, यह सुनिश्चित है कि यदि कोई अपराध किया जाता है, तो अपराधी जेल जाएगा। आज उत्तर प्रदेश में डर का माहौल नहीं है”।

हैरानी की बात तो ये है कि रणवेंद्र प्रताप सिंह उसी सरकार के मंत्री हैं जिसने सत्ता में आने से पहले सूबे की जनता से वादा किया था कि अगर वो सत्ता में आते हैं तो राज्य को पूरी तरह से अपराधमुक्त बना देंगे। अभी उनकी सरकार को तीन साल पूरे होने वाले हैं और राज्य में अपराध का ग्राफ कम होने के बजाए बढ़ा है। ऐसे में सत्तारूढ़ पार्टी के नेता यू-टर्न लेने के लिए मजबूर हो गए हैं।

उन्हें अब ये कहना पड़ रहा है कि राज्य से कभी अपराध खत्म नहीं हो सकता। चाहे राज्य में रामराज्य ही क्यों न हो। बता दें कि जब यूपी में अजय सिंह बिष्ट यानी योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने थे तो कहा जा रहा था कि सूबे में रामराज्य आएगा। लेकिन राज्य में योगी सरकार आई तो अपराधियों के बचाव में ही खड़ी हो गई। सरकार कभी रेप के आरेपी कुलदीप सिंह सेंगर को गिरफ्तार होने से बचाती रही तो कभी दुष्कर्म के आरोपी चिन्मयानंद को संरक्षण देती नज़र आई।

जिस राज्य में अपराधियों को संरक्षण मिले उस राज्य से अपराध कभी खत्म नहीं हो सकता। ऐसे में उत्तर प्रदेश में अपराध का बढ़ना स्वभाविक है और अपराध होगा तो उसकी ख़बरें भी सामने आएंगी। ये ख़बरें सरकार के लिए परेशानी न बनें इसलिए भगवान राम का सहारा भी लिया जाएगा। जैसा कि योगी के मंत्री के इस बयान से साफ़ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here