लोकसभा चुनाव में राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) को बिहार में मिली करारी शिकस्त के बाद तेजस्वी यादव के नेतृत्व को लेकर उठ रहे सवालों के बीच तेज प्रताप यादव तेजस्वी के समर्थन में उतर आए हैं।

तेज प्रताप ने ट्वीट करते हुए लिखा, “जिसको तेजस्वी के नेतृत्व पर कोई शक है वो राजद पार्टी छोड़ दे।” उन्होंने अपने छोटे भाई को समर्थन देते हुए कहा, “मैं हमेशा तेजस्वी के साथ रहूंगा। जिन्हें तेजस्वी के नेतृत्व पर भरोसा नहीं वो पार्टी और महागठबंधन छोड़ सकता है।”

दरअसल, तेज प्रताप यादव का ये बयान उस समय आया है जब मुजफ्फरपुर के गायघाट सीट से आरजेडी के बागी विधायक महेश यादव ने तेजस्वी यादव का इस्तीफा मांगा था।

ख़ुलासाः बेगूसराय-बदायूं सहित चार राज्यों की कई सीटों पर मतदान से ज़्यादा गिने गए वोट

आरजेडी के बागी विधायक महेश यादव ने 27 मई को एक बयान में कहा था कि लोकसभा चुनाव में पार्टी के खराब प्रदर्शन के बाद तेजस्वी यादव को विपक्ष के नेता पद से इस्तीफा दे देना चाहिए क्योंकि लोग वंशवाद की राजनीति से तंग आ चुके हैं। महेश यादव के इसी बयान पर तेज प्रताप ने पलटवार करते हुए ये बातें कहीं।

वहीं लोकसभा चुनाव में एनडीए को मिली बंपर जीत को तेज प्रताप ने सेटिंग बताया। उन्होंने कहा कि यह वोटिंग नहीं, बल्कि सेटिंग की जीत है। उन्होंने EVM पर आरोप लगाया।

RJD नेता का दावा- मतदान से ज़्यादा गिने गए वोट, संजय बोले- EC इस घपले पर ख़ामोश क्यों है?

तेज प्रताप यादव ने ईवीएम को लेकर भी सवाल खड़े करते हुए कहा, ‘EVM में किस तरह से हेरफेर होती, इस पर कई तरह के वीडियो वायरल हुए हैं। यहां तक कि ईवीएम बनाने वाली जापानी कंपनी भी इन ईवीएम पर भरोसा नहीं करती है’।