ख़ुद को राष्ट्र की बुलंद आवाज़ बताने वाले सुदर्शन न्यूज़ के ख़िलाफ़ धार्मिक भावनाएं भड़काने के आरोप में रायपुर के पुरानी बस्ती थाने में धारा 153 A के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। चैनल के ख़िलाफ़ यह एफआईआर बीजेपी के स्थानीय कार्यकर्ता संजय सिंह ने दर्ज कराई है।

दरअसल, चैनल ने 6 जुलाई को रायपुर के कुकरी पारा इलाके में ज़मीन के विवाद को लेकर एक रिपोर्ट की थी। ज़मीन का ये विवाद दो अलग धर्मों (हिंदू-मुस्लिम) के परिवारों के बीच का था। चैनल ने इसी बात का फायदा उठाया और ज़मीन के विवाद को धर्म से जोड़ दिया।

चैनल ने अपनी रिपोर्ट का शीर्षक रखा, “छत्तीसगढ़ मैं जिहादीयों का नंगा नाच, हिंदू महिलाओं को बलात्कार की धमकी”। रिपोर्ट के शीर्षक से ही समझा जा सकता है कि इस रिपोर्ट का मकसद क्या है।

शीर्षक के मुताबिक ही चैनल ने अपनी रिपोर्ट में इस बात का दावा किया कि मुस्लिम परिवार जिहादी मानसिकता का है, जो हिंदू परिवार की महिलाओं को रेप की धमकी दे रहा है। जबकि विवाद को लेकर हिंदू परिवार द्वारा पुलिस में दर्ज कराई गई शिकायत को देखा जाए तो परिवार ने ऐसी किसी भी बात का उल्लेख नहीं किया है।

रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है कि मुस्लिम परिवार विवादित ज़मीन पर मस्जिद बनवाना चाहता है। जबकि स्थानीय लोगों ने रिपोर्ट में किए गए दावे को सिरे से खारिज किया है। स्थानीय लोगों का कहना है कि इस रिपोर्ट का मक़सद पूरी तरह से साफ़ है। चैनल धार्मिक भावनाओं को भड़का कर सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ना चाहता है।

चैनल के ख़िलाफ़ एफआईआर दर्ज कराने वाले बीजेपी कार्यकर्ता संजय सिंह ने न्यूज़लॉन्ड्री से बात करते हुए कहा, “इलाके में हर कोई जानता है कि विवाद ज़मीन को लेकर है। उन्होंने कहा कि यह एक संयोग है कि परिवार अलग-अलग धार्मिक मान्यताओं का पालन करते हैं, लेकिन यह हिंदू-मुस्लिम संघर्ष नहीं है।

उन्होंने कहा कि कुकरी पारा हमेशा से एक शांतिप्रिय इलाका रहा है। हम अपने इलाके में नफ़रत को फलता-फूलता नहीं देखना चाहते। इसी नफ़रत को फैलने से रोकने के लिए मुझे चैनल के ख़िलाफ़ एफआईआर दर्ज करानी पड़ी।