संजीव बालियान

देश के कोने-कोने से किसान दिल्ली पहुँचते है। वजह होती है उनकी फसल का सही दाम ना मिलने की वजह से उनपर बढ़ता तमाम कर्ज।

ऐसे में केंद्र सरकार से उनकी मांग होती है कि वो स्वामीनाथन रिपोर्ट लागू करें जिससे किसानों को फसल का सही दाम मिल पाए। मगर केंद्रीय पशुधन एवं डेयरी विकास राज्यमंत्री डॉ संजीव बालियान ने अब नया सुझाव दिया है।

बालियान ने सोशल मीडिया पर जानकारी देते हुए कहा कि किसान भाईयों की आय को दोगुना करने में बकरी पालन बहुत सहायक होगी। उन्होंने ये भी लिखा कि बकरी और भेड़ को किसान के आय के साथ मुख्य रूप से वहृत स्तर पर जोड़ने हेतु व मोरिंगा आधारित बकरी चारा पर वैज्ञानिकों के साथ चर्चा की।

इसपर जवाब देते हुए पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप शाही ने सोशल मीडिया पर लिखा- लो जी, किसान की आय दोगुनी करने के लिए केंद्रीय मंत्री डॉ संजीव बालियान ने भेड़-बकरी पालने की सलाह दी। इनके गोबर से किसान की आय दोगुनी हो जाएगी। युवा बेचे पकोड़ा और किसान पाले बकरी/भेड़। #दुःखी_किसान_का_मज़ाक

भले ही केंद्रीय राज्यमंत्री ने किसानों की भलाई की बात की हो। मगर सवाल उठता है कि उन्होंने अपनी सरकार से ये मांग क्यों नहीं की जिसमें कहा गया था की फसल उत्पादन मूल्य से पचास प्रतिशत ज़्यादा दाम किसानों को मिले। स्वामीनाथन रिपोर्ट में इन मामलों को उठाया गया है।

जिसमें कहा गया है कि किसानों को अच्छी क्वालिटी के बीज कम दामों में मुहैया कराए जाएं। गांवों में किसानों की मदद के लिए विलेज नॉलेज सेंटर या ज्ञान चौपाल बनाया जाए।

महिला किसानों के लिए किसान क्रेडिट कार्ड जारी किए जाएं। किसानों के लिए कृषि जोखिम फंड बनाया जाए, ताकि प्राकृतिक आपदाओं के आने पर किसानों को मदद मिल सके। मगर इन सब मांगो को छोड़ बालियान आए बढ़ाने के लिए बकरी पालन का सुझाव दे रहें है हो सकता है ये सहायक भी हो मगर क्या इससे किसानों की समस्या ख़त्म हो जाएगी