बॉलीवुड कलाकार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान की गिरफ्तारी के मामले में रोज नए खुलासे हो रहे हैं। इसी कड़ी में हुए एक नए खुलासे के बाद अब अधिकारियों की संलिप्तता पर सवाल उठने लगे हैं।

इस मामले के गवाह KP गोसावी के बॉडीगार्ड प्रभाकर सैल ने एफिडेविट के जरिए बताया है कि गिरफ्तारी के मामले में आठ करोड़ की लेनदेन के बारे में उन्होंने खुद सुना है। प्रभाकर सैल ने लिखा-केपी गोसावी के कहने पर मैं येलो गेट पहुंचा और गोसावी को ही ये कहते हुए सुना कि 8 करोड़ समीर वानखेडे को देने हैं।

इसके साथ ही पैसे से भरे बैग का भी जिक्र किया गया है। इसके साथ ही प्रभाकर ने दावा किया है कि एनसीबी ने 10 ब्लैंक पेपर पर दस्तख़त लिए थे। इस खबर से जुड़ी तमाम जानकारी शेयर करते हुए एनडीटीवी के रिपोर्टर रोहित मिश्रा ने ट्वीट करते हुए संबंधित पत्र को अटैच किया है-

प्रभाकर सैल द्वारा एफिडेविट में किए गए इन तमाम दावों एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े की भूमिका पर सवाल उठते हैं जिनकी अगुवाई में रेड डाली गई थी और आर्यन खान को गिरफ्तार किया गया था। इसके साथ ही प्रभाकर ने दावा किया है कि NCB ऑफिस से 500 मीटर दूर पर ही गोसावी एक व्यक्ति के साथ आए जिसका नाम सैम डिसूजा है।

साथ ही उन्होंने फोन पर एक बातचीत सुनी जिसमें कहा जा रहा था कि 25 करोड़ नहीं तो कम से कम 18 करोड़ पर डील तय की जाए क्योंकि 8 करोड़ समीर वानखेड़े को देने हैं।

इस खुलासे पर प्रतिक्रिया देते हुए फिल्ममेकर विनोद कापड़ी लिखते हैं- “SHOCKING !!! #AryanKhan को छोड़ने के लिए NCB ने @iamsrk से 25 करोड़ रूपये माँगे !! लापता #KPGosai के बॉडीगार्ड ने हलफ़नामे में ये सनसनीख़ेज़ खुलासा किया है। Extortion का इससे घिनौना उदाहरण इससे पहले कब देखा गया ? उम्मीद है कि गृहमंत्री @AmitShah इसका संज्ञान लेंगे।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

20 + thirteen =