हरिद्वार पुलिस ने जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद को महिलाओं पर अभद्र टिप्पणी करने के मामले में गिरफ्तार कर लिया है। ‘धर्म संसद’ में हेट स्पीच देने के अन्य मामले में भी नरसिंहानंद के खिलाफ केस दर्ज है। उनके खिलाफ देर से लिए गए इस एक्शन को भी पुलिस की एक आधी-अधूरी कोशिश बताई जा रही है।

हरिद्वार के सर्किल अफसर ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा, “आज यति नरसिंहानंद को महिलाओं के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में गिरफ्तार किया गया है। उनके खिलाफ दो-तीन मामले दर्ज हैं।”

 

‘बीबीसी हिंदी’ की खबर के अनुसार पुलिस अधीक्षक योगेंद्र सिंह रावत ने पुष्टि की है कि नरसिंहानंद की गिरफ़्तारी हेत स्पीच मामले को लेकर नहीं हुई है। दरअसल, उन्हें मुक़दमा संख्या 18/22 के लिए गिरफ़्तार किया गया है। रुचिका नाम की एक लड़की ने उनके खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई थी। इस मामले में ताजा अपडेट ये है कि नरसिंहानंद को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

बता दें, दिसंबर 17 से 19 तक हरिद्वार के वेद निकेतन धाम में यति नरसिंहानंद द्वारा ‘धर्म संसद’ का आयोजन किया गया था। उसमें पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को गोली मारने से लेकर मुसलमानों के नरसंहार की बात की गई थी। यहां तक कि सरकार के खिलाफ युद्ध छेड़ने की धमकी भी दी गई थी।

वैसे इस तरह के आयोजन में भाजपा नेताओं का शामिल होना कोई आश्चर्यजनक बात तो नहीं है लेकिन फिर भी बता देते हैं कि बीजेपी नेता अश्विनी उपाध्याय नफरत के इस समागम में वक्ता के रूप में शामिल थे। इसके अलावा निरंजिनी अखाड़े की महामंडलेश्वर और हिंदू महासभा की महासचिव अन्नपूर्णा मां, बिहार के धर्मदास महाराज, आनंद स्वरूप महाराज, गाजियाबाद स्थित डासना देवी मंदिर का कुख्यात पुजारी यति नरसिंहानंद, सागर सिंधुराज महाराज जैसे अतिवादी हिन्दू कट्टरपंथी शामिल थे।

13 दिसंबर को वसीम रिज़वी उर्फ़ जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी को ‘हेट स्पीच मामले’ में पुलिस ने गिरफ्तार किया था। इसपर भी यति नरसिंहानंद ने विवादित बयान दिया था। गिरफ्तारी के दौरान उनका एक वीडियो भी सामने आया था जिसमें नरसिंहानंद पुलिस अफसरों से यह कहते हुए दिखाई दे रहे हैं, ‘यार तुम सब मरोगे, अपने बच्चों को भी मरवाओगे’। एक अन्य वीडियो में नरसिंहानंद पुलिस को हिजड़ा कह रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट द्वारा भेजे गए नोटिस के बाद ही पुलिस कार्रवाई कर रही है। ऐसे में सवाल उठता है कि पुलिस यति नरसिंहानंद के खिलाफ इतनी देर से एक्शन क्यों ले रही है? हेट स्पीच मामले में नरसिंहानंद पर शिकंजा कब कसा जाएगा?

प्रोफेसर अशोक स्वैन ने इस मामले में पुलिस और प्रशासन की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा, “यति नरसिंहानंद को मुस्लिमों के नरसंहार का आवहान करने के लिए गिरफ्तार नहीं किया गया बल्कि महिलाओं पर उनके पुराने बयानों के लिए गिरफ्तार किया गया है। क्या मुसलमानों को नरसंहार की धमकी देना अपराध नहीं?”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × one =