विश्वभर में मशहूर चिंतक और अकादमिक नॉम चोम्स्की ने भारत में बढ़ती संप्रदायिकता और इस्लामोफोबिया के मुद्दे पर मोदी सरकार को घेरा है। प्रोफ़ेसर चोम्स्की का कहना है कि “इस्लामोफ़ोबिया भारत में घातक रूप ले रहा है। मोदी सरकार भारतीय धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र को ख़तम कर हिन्दू राष्ट्र बना रही है।” इसके अलावा उन्होनें कश्मीर जैसे जटिल मुद्दे को लेकर भी तत्कालीन सरकार की कार्यशैली पर सवाल उठाए हैं।

दरअसल, प्रोफ़ेसर ने भारतीय अमेरिकी मुस्लिम परिषद द्वारा ‘भारत में नफ़रत भरे भाषण और हिंसा को लेकर ख़राब होती स्थिति’ पर आयोजित एक चर्चा के दौरान अपने विचारों को साझा किया था। परिषद समेत 16 अन्य प्रतिष्ठित संगठनों ने 9 फरवरी को इस चर्चा को आयोजित किया था।

नॉम चोम्स्की का कहना है कि “इस्लामोफ़ोबिया भारत में सबसे घातक रूप ले रहा है, जहाँ नरेंद्र मोदी सरकार व्यवस्थित तौर पर भारतीय धर्मनिपेक्ष लोकतंत्र को ध्वस्त कर यही है। लगभग 25 करोड़ मुस्लिम उत्पीड़ित अल्पसंख्यक बनते जा रहे हैं। कश्मीर में अत्याचारों का इतिहास रहा है, लेकिन मोदी के दक्षिणपंथी और राष्ट्रवादी शासन में ये अत्याचार और बढ़ गए हैं। कश्मीर अब क्रूरता से कब्ज़ा किया गया क्षेत्र बन गया है। यह कुछ मायनों में कब्ज़ा किए गए फ़िलिस्तीन जैसा ही है।”

बता दें कि नॉम चोम्स्की जाने-माने चिंतक हैं और मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी में एमेरिटस हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here