अरुणाचल प्रदेश में चीन द्वारा भारतीय सीमा में घुसकर गांव बसा लेने की खबर पर केंद्र की मोदी सरकार घिर गई है।

विपक्षी दल के नेता इस मुद्दे को लेकर लगातार सरकार पर हमलावर हैं। ऐसे में सरकार भी विपक्षी नेताओं को जवाब देने के लिए अजीबो-गरीब बयान का सहारा ले रही है।

दरअसल, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने अरुणाचल प्रदेश में चीन की ओर से एक गांव बसा लेने की ख़बर पर केंद्र सरकार को घेरते हुए ज़ोरदार कटाक्ष किया था।

उन्होंने अरुणाचल प्रदेश के मसले से जुड़ी खबर को ट्वीट करते हुए लिखा, ‘उनका वादा याद है – मैं देश झुकने नहीं दूंगा।’

राहुल गांधी के इस बयान पर किरण रिजिजू ने उलटा कांग्रेस को ही इसके लिए ज़िम्मेदार ठहरा दिया।

उन्होंने कहा, ‘अपने गिरेबान में भी झांका करो कभी-कभी, किसी दूजे पर गर्द झाड़ देना आसां बहुत होता है! जिन लोकेशन्स का आप जिक्र कर रहे हैं उन पर चीन ने कांग्रेस के शासन काल में कब्जा किया था। एक राष्ट्रीय नेता संवेदनशील तथ्यों से इतना अनजान कैसे हो सकता है?’

किरण रिजिजू के बयान पर गौर किया जाए तो पता चलेगा कि वह ख़ुद मान रहे हैं कि चीन ने जो कब्ज़ा किया है वह पुराना है। वह पहले से ही चीन की ज़मीन है, इसलिए उसपर सवाल उठाना अब सही नहीं है।

हालांकि कब्ज़े वाले इलाके की सैटेलाइट तस्वीर देखने वाले विशेषज्ञों का दावा है कि चीन ने जहां गांव बसाया है, वहां एक साल पहले तक चीन का कोई कब्ज़ा नहीं था।

किरण रिरिजू के इस बयान पर शिवसेना नेता प्रियंका चतुर्वेदी ने आपत्ति जताई है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “किरण रिरिजू जी आपके ट्वीट से पता चलता है कि भारत सरकार का स्टैंड यह है कि अगर पिछली सरकार की नाकामियों के कारण हमारे क्षेत्र पर चीन द्वारा अवैध रूप से कब्जा कर लिया गया है, तो उनके लिए यह ठीक है।

अब वो वहां दावा कर सकते हैं और नया निर्माण कर सकते हैं। आशा है कि आप अपना बयान वापस लेंगे क्योंकि यह अस्वीकार्य है”।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

15 + seven =