पिछले कई दिनों से मीडिया में यूपी के मुरादाबाद से जुड़ी एक खबर चल रही थी, जिसमें यह दावा किया जा रहा था कि मुसलमानों के कारण हिंदूओं की एक कॉलोनी पलायन करने को मजबूर हो गई है. लोग मुसलमानों से इतना तंग आ गए हैं कि अपने अपने घरों को बेचने की तख्ती लगा चुके हैं.

ये खबर सोशल मीडिया से लेकर मीडिया तक आग की तरह फैल गई या यूं कह सकते हैं कि सोची समझी साजिश के तहत फैलाई गई. कुछ न्यूज चैनल तो खबरों के साथ साथ इसी मुद्दे पर डिबेट भी कराने लगे. माहौल को जहरीला बनाने की पूरी कोशिश की गई.

इसके बाद यूपी पुलिस को सामने आना पड़ा और बताना पड़ा कि ये खबर पूरी तरह से भ्रामक और झूठी है. पुलिस ने साफ किया है कि हिंदू परिवारों को तंग किए जाने की खबर पूरी तरह से गलत है.

कॉलोनी में कुछ लोग चाहते थें कि यहां दूसरे समुदाय के लोगों को मकान न बेचा जाए, इसलिए उन्होंने यह मकान बिकाउ है के पोस्टर लगा दिए. पुलिस ने कहा कि भारत में कोई भी व्यक्ति कहीं भी संपत्ति खरीद कर रह सकता है.

खबर फैली थी कि लाजपतनगर की शिव मंदिर कॉलोनी में रहने वाले कुछ परिवारों ने यह आरोप लगाया था कि मुस्लिम समुदाय के लोगों ने उन लोगों का रहना मुश्किल कर दिया है.

ये लोग घरों के सामने मांस और गंदगी फेंकते हैं और हिंदूओं को भगाने की साजिश रचते हैं. परेशान होकर लोगों ने अपने अपने घरों के बाहर मकान बिकाउ होने के पोस्टर लगा दिए हैं.

ये खबर इतनी ज्यादा फैली की पुलिस को छानबीन करना पड़ा. जब पुलिस ने पूरे मामले की पड़ताल की तो मामला गलत निकला. दरअसल जिस मामले को हिंदू मुस्लिम का रंग दिया जा रहा था, उसकी कहानी कुछ और ही निकली.

मुरादाबाद पुलिस ने साफ किया है कि कॉलोनी के बी ब्लॉक में कुल 81 मकान है. किसी भ मकान की बिक्री नहीं हुई है.

पुलिस ने साफ किया कि सोशल मीडिया पर कुछ लोग जान बूझकर सांप्रदायिक सौहार्द को बिगाड़ने का प्रयास कर रहे हैं. यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई करेगी.

वहीं पत्रकार श्याम मीरा सिंह ने इस मुद्दे पर ट्वीट करते हुए कहा है कि यूपी पुलिस ने इस खबर को झूठा एवं भ्रामक पाया है. इस खबर को फैलाने वालों पर कार्रवाई की जाएगी. इस खबर को फैलाने में जी न्यूज जैसा चैनल भी शामिल है. जी न्यूज जैसे घटिया चैनल पर भी कार्रवाई होनी चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

15 − seven =