चंडीगढ़ में पुलिस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली से पहले करीब 12 छात्रों को हिरासत में लिया। इन छात्रों को इसलिए हिरासत में लिया गया क्योंकि ये छात्र पीएम मोदी की सलाह पर पकौड़े बेच रहे थे।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ये छात्र मंगलवार को पीएम मोदी की रैली स्थल के करीब काले रंग के ग्रेजुएशन रोब्स में प्रदर्शन कर रहे थे और ‘मोदी पकौड़ा’ बेच रहे थे। सेक्टर 34 थाना प्रभारी बलदेव कुमार ने बताया कि 10 से 12 छात्रों को एहतियातन हिरासत में लिया गया था। जिन्हें रैली खत्म होने के बाद रिहा कर दिया गया।

बंगाल BJP अध्यक्ष का करीबी 1 करोड़ कैश के साथ गिरफ्तार, संजय बोले- TV पर दिखाना सख़्त मना है

प्रदर्शन कर रहे छात्रों का कहना है कि हम यहां पकौड़ा योजना के तहत हमें नये रोजगार देने के लिए मोदीजी का स्वागत करने के लिए आए हैं। हम मोदी रैली में पकौड़ा बेचना चाहते हैं ताकि, वह जान सकें कि शिक्षित युवा के लिए पकौड़ा बेचना कितना महान है।

पकौड़ा बेच रहे छात्रों को गिरफ्तार किए जाने पर सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने ट्विटर के ज़रिए कहा, “चंडीगढ़ में मोदी की रैली से पहले ‘मोदी पकौडा’ बेचने की कोशिश कर रहे ग्रेजुएट्स को गिरफ्तार किया गया! तो अगर आप मोदी की सलाह पर चलते हैं, तो आपको गिरफ्तार कर लिया जाता है!”

30,000 करोड़ का राफेल घोटाला करने वाले मोदी ने सोचा था क्लाउडी है मौसम, नहीं आऊंगा रडार में

उन्होंने आगे कहा, “शायद अब उन्हें लगता है कि लोगों को जेल में डालना उन्हें रोज़गार प्रदान करने का एक बेहतर तरीका है!”

बता दें कि पिछले साल जनवरी में रोजगार के सवाल पर पीएम मोदी ने एक इंटरव्यू में कहा था कि लोग पकौड़ा बेच कर एक दिन में 200 रूपया कमा रहे हैं उसे बेरोजगारी नहीं माना जा सकता।