साल 2014 में पूर्व सीएजी विनोद राय द्वारा इंटरव्यू में कांग्रेस नेता संजय निरुपम और सांसदों के साथ मिलकर उन पर 2जी स्पेक्ट्रम रिपोर्ट से पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का नाम हटाने का दबाव बनाने की बात कही गई थी।

अब खबर सामने आ रहे हैं कि पूर्व सीएजी विनोद राय ने इस मामले में कांग्रेस नेता संजय निरुपम से माफी मांग ली है।

उनका कहना है कि उन्होंने गलती से कांग्रेस नेता संजय निरुपम का नाम उस इंटरव्यू में ले लिया था।

दरअसल साल 2012 से लेकर साल 2014 के दौरान सीएजी विनोद राय द्वारा कांग्रेस नेता संजय निरुपम पर जो आरोप लगाए गए थे। उसकी वजह से सियासी गलियारों में हड़कंप मच गया था।

इस मामले में जन अधिकार पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व सांसद पप्पू यादव भाजपा सरकार पर निशाना साधा है।

उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि “पूर्व CAG विनोद राय को माफी नहीं। फांसी की सजा होनी चाहिए।

2G, कोयला घोटाला में 1-2 लाख करोड़ के फर्जी घोटाले का दुष्प्रचार कर न सिर्फ बेईमान मोदी सरकार देश पर थोप दिया, बल्कि, टेलीकॉम सेक्टर, बिजली सेक्टर को तबाह कर दिया।”

गौरतलब है कि पूर्व सीएजी विनोद राय ने एक के बाद तत्कालीन कांग्रेस सरकार पर कई आरोप लगाए थे।

उस वक़्त देश में साल 2014 के लोकसभा चुनाव होने वाले थे। इस दौरान मनमोहन सिंह सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगा भारतीय जनता पार्टी को सत्ता में लाने के लिए बढ़-चढ़कर प्रचार प्रसार किया गया था।

इस मामले में कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने भी प्रतिक्रिया जाहिर की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि “आखिर में पूर्व सीएजी विनोद राय ने एमएम कोर्ट, पटियाला हाउस नई दिल्ली में आज मेरे द्वारा दायर किए गए मानहानि मामले में मुझसे बिना किसी शर्त के माफी मांग ली है।

यूपीए सरकार द्वारा किए गए 2जी और कोयला ब्लॉक आवंटन के बारे में अपनी सभी फर्जी रिपोर्टों के लिए उन्हें अब देश से माफी मांगनी चाहिए।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

5 × 2 =