प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज प्रयागराज में कहा है कि ”5 साल पहले यूपी की सड़कों पर माफियाराज था! यूपी की सत्ता में गुंडों की हनक हुआ करती थी! इसका सबसे बड़ा भुक्तभोगी कौन था? मेरे यूपी की बहन बेटियां थीं। योगी जी ने इन गुंडों को उनकी सही जगह पहुंचाया है।”

प्रधानमंत्री आगे कहते हैं ”योगी जी ने गुंडों को सही जगह पहुंचाया है, आज यूपी में सुरक्षा भी है और अधिकार भी।”

ये तो हुआ प्रधानमंत्री का दावा। लेकिन इन दावों की हकीकत क्या है? आइए आंकड़ों से समझते हैं…

प्रधानमंत्री ने कहा कि योगी सरकार से पहले उत्तर प्रदेश में माफियाराज था, जिसकी भुक्तभोगी यूपी की बहन बेटियां थीं। प्रधानमंत्री का ये दावा कोरा झूठ है। क्योंकि योगी सरकार में महिलाएं ज्यादा असुरक्षित हुई हैं। महिलाओं के साथ होने वाले क्राइम के मामले में उत्तर प्रदेश टॉप पर है।

केंद्र सरकार की एजेंसी नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) के मुताबिक, महिलाओं के खिलाफ सबसे ज्यादा क्राइम उत्तर प्रदेश में किया जा रहा है। साल 2020 में महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराध के 49,385 मामले दर्ज कराए गये थे। बलात्कार के मामले में भी उत्तर प्रदेश टॉप सेकंड है। यानी राजस्थान के बाद उत्तर प्रदेश ही वो राज्य है जहां महिलाएं सबसे अधिक बलात्कार का शिकार हो रही हैं।

साल 2020 में देश भर में बलात्कार के कुल 28046 मामले दर्ज किए गए, जिसमें से अकेले उत्तर प्रदेश में कुल 2,769 मामले दर्ज हुए। ताजा आंकड़ों की बात करें तो यूपी के 16 जिलों में पिछले एक माह में 41 लड़कियों से रेप और छेड़छाड़ के संगीन मामले सामने आए। इनमें 33 नाबालिग हैं। सिर्फ एक माह में साढ़े 3 साल की बच्ची लेकर 30 साल की महिला तक से रेप के मामले सामने आ चुके हैं।

जहां तक गुंडों को सही जगह पहुंचाने का दावा है तो उसकी भी सच्चाई जान ही लीजिए। NCRB-2020 के आंकड़ों के मुताबिक ही उत्तर प्रदेश हत्या के मामले में नंबर-1 पर है। रिपोर्ट की माने तो साल 2020 में देश में कुल 29,193 मर्डर हुए, जिसमें से अकेले सिर्फ उत्तर प्रदेश में 3,779 हत्याएं हुईं। 2019 की तुलना में ये आंकड़ा ज्यादा है। ऐसे में प्रधानमंत्री का दावा कहां टिकता है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two × 2 =