लोकसभा चुनाव के मद्देनज़र भारतीय चुनाव आयोग ऐक्टिव मोड में नज़र आ रहा है। चुनाव में किसी तरह की गड़बड़ी न हो, इसके लिए चुनाव आयोग के अधिकारी नेताओं और उनके काफिले में चल रही गाड़ियों की तलाशी कर रहे हैं।

इस बीच चुनाव आयोग के अधिकारियों पर यह आरोप भी लग रहे हैं कि वो जानबूझकर ग़ैर-भाजपाई नेताओं को परेशान करने के लिए सिर्फ उनकी ही गाड़ियों की तलाशी कर रहे हैं। दावा किया जा रहा है कि चुनाव आयोग के अधिकारी बीजेपी नेताओं की गाड़ियों की कोई तलाशी नहीं कर रहे, जबकि उनमें संदिंग्ध चीज़ें मिलने की आशंका है।

PMO के अफसरों ने मोदी पर लगाया उत्पीड़न का आरोप, बोले- दोबारा PM बने तो नौकरी छोड़ देंगे

इसी कड़ी में सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया जा रहा है। जिसमें यह दावा किया जा रहा है कि कर्नाटक के चित्रदुर्ग में चुनावी रैली करने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हेलीकॉप्टर से एक संदिग्ध बॉक्स को उतारकर वहां खड़ी एक इनोवा में रखा गया, जो थोड़ी ही देर में ग़ायब हो गई।

मोदीजी, सिर्फ पुलवामा ही क्यों ऑक्सीजन की कमी से मरे बच्चों के नाम पर भी वोट मांग लीजिए

इस वीडियो को लेकर चुनाव आयोग को कटघरे में खड़ा किया जा रहा है। कांग्रेस से जुड़े श्रीवत्स ने ट्विटर के ज़रिए सवाल उठाते हुए कहा, “बॉक्स सुरक्षा प्रोटोकॉल का हिस्सा क्यों नहीं था? पीएम के काफिले का इनोवा हिस्सा क्यों नहीं था? किसकी कार थी”?

बता दें कि पिछले हफ्ते ही कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारास्वामी ने चुनाव आयोग पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा था कि उन्हें और उनके परिवार को परेशान करने के लिए दो दिन के भीतर उनकी कार की 13 से 14 बार तलाशी ली गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 − 4 =