8 जनवरी को चुनाव आयोग की घोषणा के साथ 5 राज्यों (उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा, मणिपुर) में आदर्श आचार संहिता लागू हो चुकी है। इस दौरान सरकारी मशीनरी और पद का दुरुपयोग ना करने का निर्देश होता है।

लेकिन भाजपा शासित उत्तर प्रदेश में चुनाव आयोग का ये निर्देश धूल फांकता नज़र आ रहा है। रविवार को रायबरेली के जिला अस्पताल में एक चार पहिया वाहन खड़ी दिखी। इस वाहन पर सत्ताधारी भाजपा का झंडा और स्टीकर लगा था। साथ में योगी-मोदी और नीता साहू की तस्वीर।

जी हाँ, भाजपा का झंडा लगाए इस गाड़ी में नीता साहू अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक का प्रभार संभालने पहुंची थी। गाड़ी का नंबर था 70 डीएन 0063। आश्चर्य की बात ये है कि आचार सहिंता लागू होने के बाद सरकारी कर्मी के सरकारी अस्पताल में भाजपा का झंडा लगाए पहुंचने के बावजूद किसी अधिकारी ने कोई कार्रवाई नहीं की।

मीडिया कर्मियों ने जब घटना के संबंध में रायबरेली के डीएम वैभव श्रीवास्तव से सवाल पूछा तो उन्होंने मामले को गंभीर बताते हुए कहा, तत्काल सीएमएस से स्पष्टीकरण मांगा जा रहा है।

बता दें कि 1 जनवरी को उत्तर प्रदेश 53 चिकित्साधिकारियों का तबादला किया गया था। इसी दौरान टीबी सप्रू चिकित्सालय की डॉ. नीता साहू को जिला चिकित्सालय रायबरेली का सीएमएस बनाया गया था। आज रविवार को नीता साहू सीएमएस का प्रभार लेने पहुंची थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × two =