• 2.9K
    Shares

बसपा सुप्रीमो मायावती ने राफेल सौदे को लेकर एक बार फिर मोदी सरकार पर हमला किया है। सोमवार को मायावती ने एक के बाद एक ट्वीट करते हुए लिखा है…

‘केन्द्र सरकार ने राफेल लड़ाकू विमान सौदे में भ्रष्टाचार विरोधी प्रावधान को समाप्त कर दिया था- द हिन्दू अंग्रेजी अख़बार का राफेल में आज का नया विस्तृत रहस्योदघाटन फिर भी नो प्राब्लम। बीजेपी व आरएसएस वालों के लिये चौकीदार का महत्त्च है उसकी ईमानदारी का नहीं।’

मायावती ने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा है ‘भ्रष्टाचार-मुक्ति, ईमानदारी, देशहित व राष्ट्रीय सुरक्षा सब कुछ चौकीदार पर न्योछावर। अब चुनाव के समय चौकीदार सरकारी ख़र्चे पर देश भर में घूम-घूम कर सफाई दे रहें है कि वह बेईमान नहीं है बल्कि ईमानदार है। देश को सोचना है कि ऐसे चौकीदार का आख़िर क्या किया जाये?’

The Hindu का एक और बड़ा ख़ुलासाः राफेल डील से चंद दिन पहले हटाया गया एंटी करप्शन क्लॉज़, देश से क्या छुपाना चाहते थे मोदी?

बता दें कि राफेल लड़ाकू विमान सौदा मोदी सरकार के गले फांस बन चुकी है। अंग्रेज़ी अख़बार The Hindu इसे लेकर लगातार खुलासे कर रहा है।

अख़बार ने अपने पहले ख़ुलासे किया था कि, रक्षा मंत्रालय के सख़्त ऐतराज़ के बावजूद प्रधानमंत्री कार्यालय डील में समानांतर सौदेबाज़ी कर रहा था।

अब एक और खुलासा हुआ जिसमें कहा गया है की सरकार ने राफेल डील साइन होने के कुछ दिन पहले डील से एंटी करप्शन क्लॉज़ को हटाया था।

राफेल ख़ुलासे पर रक्षामंत्री ने दी सफ़ाई, अलका बोलीं- चोरी पकड़ी गई, अब सफाई देने से कोई फायदा नहीं

अख़बार ने उसके पास मौजूद दस्तावेज़ो के हवाले से ये दावा किया है कि, सरकार ने डील से भ्रष्टाचार विरोधी जुर्माने का प्रावधान डील साइन होने के कुछ दिन पहले ही हटा दिया था।