• 1.2K
    Shares

कल मेरठ में हुई प्रधानमंत्री की रैली पर विपक्षी दलों की नज़र बनी रही। इस जनसभा में पीएम मोदी समेत सीएम योगी और सभी बीजेपी नेताओं ने महागठबंधन यानी की सपा बसपा और आरएलडी पर जमकर निशाना साधा।

पीएम मोदी के तमाम बयान पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने पलटवार करने में देरी नहीं लगाई।

उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा- पीएम श्री मोदी ने आज मेरठ से लोकसभा चुनाव अभियान की शुरूआत करते हुए कहा कि मैं अपना हिसाब दूंगा लेकिन विदेश से कालाधन वापस लाकर गरीबों को 15 से 20 लाख रुपये देने व किसानों की आय दोगुणी करने आदि जनहित के मुद्दों का हिसाब-किताब दिये बिना ही वे मैदान छोड़ गए, चौकीदार क्या ईमानदार है।’

मोदी के चौकीदार हुए मालामाल, 5 साल में पूनम महाजन की संपत्ति 900 फ़ीसदी बढ़ी

मायावती ने आगे कहा कि ‘व्यक्तिगत, जातिगत व साम्प्रदायिक द्वेष व घृणा की राजनीति करना बीजेपी एण्ड कम्पनी की शोभा है जिसके लिये उनकी सरकार लगातार सत्ता का दुरुपयोग करती रही है। देशहित को सर्वोपरि मानकर ऐसी गरीब, लोकतंत्र व जनविरोधी सरकार से देश को मुक्ति दिलाने के लिए बसपा-सपा-आरएलडी ने गठबंधन किया है।

बता दें कि उत्तर प्रदेश के मेरठ में एक जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने यूपी में बने सपा-बसपा और आरएलडी के मजबूत गठबंधन की तुलना ‘शराब’ से कर डाली।

सेना और वैज्ञानिकों के नाम पर वोट मांगने वाले PM मोदी नोटबंदी-GST पर वोट क्यों नहीं मांगते?

उन्होंने बस तीनों दलों का पहला शब्द जोड़कर कहा कि ये सपा का स, रालोद का रा और बसपा का ब मतलब सराब! ये सराब आपको बर्बाद कर देगी। शराब को सराब कहते हुए पीएम मोदी ने चुनावी सभा में सार्वजनिक तौर पर शराब का नाम ले लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here