लोकसभा चुनाव 2019 के आखिरी चरण के मतदान खत्म होने के साथ ही देशभर में EVM का खेल शुरू हो गया है। विपक्षी पार्टियों का आरोप है कि मतदान केन्द्रों पर ईवीएम मशीनें बदली जा रही हैं। जगह-जगह से बिना सुरक्षा के ईवीएम मशीनें गाड़ियों में भरकर लाई जा रही हैं, इसके कई वीडियो सामने आ रहे हैं।

बिहार के सारण और महाराजगंज लोकसभा क्षेत्र में ईवीएम के साथ धांधली करने का मामला सामने आने के बाद। अब यूपी के हर कोने से EVM से धांधली करने का मामला सामने आ रहा है। झांसी, मेरठ, चंदौली, गाजीपुर से EVM में धांधली करने का मामला सामने आ रहा है।

गाजीपुर के गठबंधन प्रत्याशी अफजाल अंसारी स्ट्रांग रूम के बाहर बैठकर धरना दे रहे हैं। अफजाल का कहना है कि भाजपा प्रशासन के जरिए EVM से छेड़छाड़ करके लोकतंत्र की हत्या कर रही है।

आरोप यह भी है कि जगह-जगह स्ट्रांग रूम में बीजेपी कार्यकर्ता प्रशासन की मदद से नई EVM मशीनें ला रहे हैं, जिससे की 23 मई को आने वाले परिणामों में धांधली की जा सके।

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने EVM से धांधली करने पर ट्वीट करके चुनाव आयोग पर तीखा हमला किया है। उन्होंने लिखा है कि, “झांसी, मेरठ, चंदौली, गाजीपुर, सारण हर जगह मतगणना केन्द्रों पर मशीनें बदली जा रही हैं। लेकिन चुनाव आयोग और गोदी मीडिया मोदी के सामने नतमस्तक हैं। आँखों पर पट्टी बांधे घुटनों के बल बैठा है। जनता ने मोदी के खिलाफ वोट दिया है, उसे मीडिया और चुनाव आयोग मिलकर बदल रहे हैं।

बता दें कि ऐसी ही घटना यूपी के चंदौली लोकसभा क्षेत्र से भी आई है, जहाँ से यूपी बीजेपी अध्यक्ष महेंद्र नाथ पाण्डेय उम्मीदवार हैं। EVM से भरी गाडियां स्ट्रांग रूम के आस-पास मंडरा रही हैं। सपा का आरोप है कि इस काम में जिला प्रशासन बीजेपी का भरपूर साथ दे रहा है।