गीतकार जावेद अख्तर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में हुई कथित चूक और देश में आए दिन हो रहे मुसलमानों के कत्लेआम के आह्वान की तुलना करते हुए सवाल उठाया है।

जावेद अख्तर ने ट्वीट किया है कि, ”प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद पर एक अस्पष्ट और कई लोगों द्वारा काल्पनिक बताए जा रहे खतरे पर चर्चा करने के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात की और इस पर विचार-विमर्श किया। वो एक LMGs (लाइट मशीनगन) से सुसज्जित बॉडीगार्ड्स के घेरे में बुलेटप्रूफ गाड़ी में बैठे हुए थे। लेकिन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 20 करोड़ भारतीयों पर नरसंहार के खतरे पर एक शब्द भी नहीं कहा।”

इसके बाद उन्होंने प्रधानमंत्री को ‘मिस्टर मोदी’ कह कर सम्बोधित करते हुए पूछा है कि वो ऐसा क्यों कर रहे हैं?

बता दें कि हिन्दू दक्षिणपंथी देश के अलग-अलग हिस्सों में लगातार धर्म संसद का आयोजन मुसलमानों के कत्लेआम का आह्वान कर रहे हैं। अभी हाल में ही एक वीडियो सामने आया है जिसमें यति नरसिंहानंद के साथ बैठा एक कथित बाबा कुरान पढ़ने वालों को धरती से खत्म करने का आह्वान कर रहा है।

हरिद्वार में हुए धर्म संसद में भी अन्नपूर्णा मां, धर्मदास महाराज, आनंद स्वरूप महाराज, डासना देवी मंदिर के कुख्यात पुजारी यति नरसिंहानंद, सागर सिंधुराज महाराज ने मुसलमानों के खिलाफ जहर उगला था। अब इस तरह के बयान आम होने लगे हैं लेकिन प्रधानमंत्री मोदी ने मुसलमानों के खिलाफ छिड़े इस जंग पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

यही वजह है कि जावेद अख्तर का सवाल महत्वपूर्ण हो जाता है। प्रधानमंत्री अपनी सुरक्षा में संदेह होने पर भी राष्ट्रपति से चर्चा करते हैं लेकिन देश की 20 करोड़ आबादी यानी मुसलमानों के जनसंहार के आह्वान पर भी चुप्पी साधे रहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

2 × one =