केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की पार्टी लोकजनशक्ति पार्टी ने लोकसभा चुनाव के लिए शेड्यूल का एलान एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कर दिया। अब सवाल ये है कि, ये जानकारी बीजेपी की सहयोगी पार्टी के पास आई कहाँ से?… ये जानकारी तो सिर्फ़ चुनाव आयोग के पास होनी चाहिए जो कि एक स्वतंत्र संस्था है।

अंग्रेज़ी अख़बार THE TELEGRAPH के मुताबिक़, लोजपा के बिहार अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस सत्तारूढ़ सहयोगियों के साथ एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने पीएम मोदी की होने जा रही एक रैली के बारे में बात करते हुए कहा कि, हम इस रैली को 3 मार्च को करने जा रहे हैं। क्योंकि चुनाव आयोग 6 से 10 मार्च के बीच चुनाव की घोषणा कर सकता है

सवाल ये है कि, चुनाव आयोग की गतिविधियों की जानकारी बीजेपी और उसके सहयोगियों को कैसे मिल जाती है?…

क्या आप जानते हैं कि चुनाव के लिए शेड्यूल की घोषणा के साथ ही आदर्श आचार सहिंता लागू हो जाती है। और इस हाल में कोई भी नई घोषणा, योजना की घोषणा सरकारें, या नेता नहीं कर सकते हैं।

EVM सुरक्षित है तो भाजपा नेताओं के होटल में कैसे पहुंच जाती है, क्या चुनाव आयोग झूठा है ?

ये पहली बार नहीं है जब एनडीए को चुनाव आयोग की अंदरूनी ख़बर लगी हो। इससे कुछ महीनों पहले हुए कर्नाटक चुनाव की चुनाव तारीख़ की घोषणा बीजेपी आईटी सेल के मुखिया अमित मालवीय ने चुनाव आयोग से पहले कर दी थी-

काफ़ी फ़ज़ीहत के बाद मालवीय ने ये ट्वीट डिलीट किया था। लेकिन ये सारी बाते अपने आप में चिंता का विषय हैं क्योंकि संवैधानिक संस्थाओं और स्वतंत्र संस्थाओं की अंदरूनी बातें इस तरह सरकार या उससे जुड़े लोगों के पास पहुँचना वाकई ख़तरनाक है।

अमेरिकी EVM एक्सपर्ट का दावा- 2014 लोकसभा चुनाव में BJP ने ‘रिलायंस’ की मदद से EVM को हैक किया था

बता दें कि पिछले कुछ वक्त से चुनाव आयोग पर बीजेपी को फायदा पहुंचाने का आरोप लग रहा है। चाहे इवीएम का मामला हो या तारीखों की सिफ्टिंग का, चुनाव आयोग की गतिविधियां संदेह के घेरे में हैं।

सवाल उठता है कि क्या चुनाव आयोग चुनावों की तारीख सत्ताधारी दलों के राय से तय करता है? अगर नहीं तो फिर भाजपा और उसके सहयोगी दलों को चुनाव तारीखों की जानकारी पहले से कैसे होती है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

11 + twenty =