पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिहं के मीडिया एडवाइजर रहे संजय बारू की किताब ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ पर आधारित फिल्म का ट्रेलर लॉच हो चुका है। फिल्म का नाम भी किताब के नाम पर रखा गया है।

कांग्रेस ने इस फिल्म पर आपत्ति जताई है। कांग्रेस का कहना है कि इस फिल्म का मकसद पार्टी को बदनाम करना और बीजेपी को फायदा पहुंचाना है। बता दें कि इस फिल्म को लोकसभा चुनावों से कुछ महीने पहले ही रिलीज़ किया जाएगा।

कांग्रेस का दावा है कि इस फिल्म को लोकसभा चुनावों से पहले इसलिए रिलीज़ किया जा रहा है, ताकि जनता का ध्यान ग्रामीण क्षेत्र की समस्याओं, बेरोजगारी, नोटबंदी की त्रासदी, जीएसटी को गलत ढंग से लागू करने, अर्थव्यवस्था की स्थिति और भ्रष्टाचार से भटकाया जा सके।

ट्रेलर और बीजेपी के दावों के मुताबिक, इस फिल्म में गांधी परिवार को विलेन के तौर पर पेश करते हुए यह दिखाया गया है कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह गांधी परिवार के हाथ की कठपुटली थे।

बीजेपी ने इस फिल्म के ट्रेलर को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से शेयर किया है। इस ट्रेलर को शेयर करते हुए बीजेपी की ओर से लिखा गया, ‘एक परिवार ने कैसे एक देश को दस साल तक गिरवी रखा, इसकी दिलचस्प कहानी! क्या डॉ. सिंह एक ऐसे नेता थे जो प्रधानमंत्री की कुर्सी वारिस के तैयार होने तक ही संभाल रहे थे?

‘एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ की तरह क्या कांग्रेस ‘2002 दंगे’ पर मूवी नहीं बना सकतीः अलका लांबा

देखिए एक अंदर के शख़्स के अनुभवों पर आधारित फिल्म ‘द एक्सीडेंट प्राइम मिनिस्टर’ का ट्रेलर, जो 11 जनवरी को रिलीज़ हो रही है।’

इस ट्रेलर के रिलीज़ होने के बाद प्रतिक्रियाओं का दौर भी शुरु हो गया है। मशहूर शायर डॉ कुमार विश्वास ने इसपर तंज़ कसते हुए ट्विटर के ज़रिए कहा,

“भाड़ में गए देश के ज़रूरी मुद्दे यार, फ़िल्म देखो और तय करो कि वोट किसे देनी है! जिसने ज़्यादा अच्छा अभिनय किया है उसे या जो ज़्यादा अच्छा अभिनय कर रहा है उसे? शांतता नाटक चालू आहे”।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × one =