योगी सरकार ने इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज रख दिया है। हालाँकि इलाहाबाद बोलने या लिखने पर पाबंदी नहीं लगाई है। मगर सोशल मीडिया पर बीजेपी आईटी और भक्तों ने कवि कुमार विशवास की क्लास लगा दी।

वो भी इसलिए क्योंकि उन्होंने सोशल मीडिया पर प्रयागराज की जगह इलाहाबाद लिख दिया। जिसपर आलोचना होने पर उन्होंने कहा कि ये हमारी नैतिक बर्बादी है।

सोशल मीडिया पर कुमार विश्वास ने (पहले) इलाहाबाद (अब) प्रयागराज में लगी स्वतंत्रा सेनानी चन्द्रशेखर आजाद की मूर्ति के साथ एक तस्वीर शेयर की और लिखा स्टार के साथ सेल्फी अगर आप इलाहाबाद में हो तो ये आशीर्वाद है।

हाईकोर्ट ने योगी से मांगा जवाब, पूछा- इलाहाबाद का नाम ‘प्रयागराज’ क्यों कर रही है सरकार

इतना लिखने सोशल मीडिया यूज़र भड़क उठे। कई यूजर्स ने लिखा- इलाहाबाद नही प्रयागराज बोलिये, वरना योगी जी से कम्प्लेन कर दूंगी

एक और यूजर लिखते हैं- ये वही लोग प्रयागराज बोल रहे है जिन्होंने इलाहाबाद और चन्द्रशेखर के इतिहास को नहीं जाना

एक यूज़र ने बकायदा इसे धर्मनिरपेक्षता से जोड़ते हुए लिखा- कुछ लोग स्वयं को इतना बड़ा समझते हैं कि उनको गलती का एहसास कराने पर भी नहीं होता, और आप भी इससे वंचित नहीं है बड़े भैया।

इलाहाबाद का नाम बदले जाने पर बोले दिग्विजय- BJP के बस दो ही काम, काटो फ़ीता और बदलो नाम

क्षमाप्रार्थी। वैसे सेल्फी तो आज़ाद जी के होने से लाजवाब हो गई है, परंतु आप ने प्रयागराज तो लिखना बनता है, सेक्यूलर बनने के चक्कर में अस्तित्व ना भूल बैठे।

इन सोशल मीडिया यूज़रों और भक्तों को कुमार विश्वास ने पलटवार करते हुए लिखा- राजनीति ने हमारी सोच-संवेदना को कितना घटिया और कुंठित कर दिया है कि आज़ाद की प्रतिमा के साथ पोस्ट सैल्फी पर कोई टिप्पणी आज़ाद को प्रणाम या प्रेम पर नहीं बल्कि इलाहाबाद को प्रयागराज न लिखने पर धमकियों या उपहास जैसी हैं ! अपनी नैतिक बर्बादी के शायद हम खुद ज़िम्मेदार हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

20 − seventeen =