सीबीआई निदेशक अलोक वर्मा को सीबीआई से हटाकर फायर सेफ्टी विभाग का डीजी बनाया गया है। ये फैसला पीएम नरेंद्र मोदी, जस्टिस सीकरी और नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के बीच हुई बैठक में लिया गया है। सीबीआई डायरेक्टर पर 2-1 से फैसला लिया गया। खड़गे ने वर्मा के पक्ष में वोट किया है।

इस मामले पर पत्रकार ब्रजेश कुमार सिंह ने तंज करते हुए सोशल मीडिया पर लिखा उम्मीद है कि सीबीआई के डायरेक्टर पद से आलोक वर्मा को हटाने के मामले में पीएम मोदी से सहमत होने वाले जस्टिस सीकरी पर हमला नहीं होगा। उम्मीद के उलट फैसला आने पर किसी को आजकल छोड़ा नहीं जाता।

बता दें कि इससे पहले 77 दिन बाद सीबीआई मुख्यालय पहुँचे सीबीआई चीफ़ ने उनकी ग़ैरमौजूदगी में किए गए सारे ट्रांसफ़र कैंसल कर दिए। ये सारे ट्रांसफ़र ऑर्डर एम नागेश्वर राव ने दिए थे। जो वर्मा की ग़ैरमौजूदगी में सीबीआई के अंतरिम निदेशक बनाए गए थे।

राफेल घोटाले में मोदी के खिलाफ FIR दर्ज करके जांच करने वाले थे अलोक वर्मा! इसलिए बर्खास्त किए गए : प्रशांत भूषण

सीबीआई चीफ़ ने आज 10 जनवरी को अपने ऑफ़िस के दूसरे दिन ताबड़तोड़ पाँच अधिकारियों के तबादले भी किए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

11 + 9 =