लोकसभा चुनाव से ठीक पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने बुधवार को रेडियो, टेलीविज़न और सोशल मीडिया के माध्यम से देश को सम्बोधित किया. उन्होंने अंतरिक्ष में मिशन शक्ति के सफल होने की सूचना दी.

मिशन शक्ति के तहत भारत ने A-SAT सफलतापूर्वक लॉन्च किया. अमेरिका, चीन, रूस के बाद ऐसा करने वाला भारत चौथा शक्तिशाली देश बन गया है. इस उपलब्धि के लिए मोदी ने सभी डीआरडीओ वैज्ञानिकों को बधाई दी और कहा की उन्हें उनपर गर्व है.

अगर नेहरू ने IIT की जगह ‘मंदिर-स्टैच्यू’ बनवाए होते तो हम आज मंदिर में घंटा बजा रहे होतेः केजरीवाल

देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने DRDO व सीएसआईआर जैसे संस्थानों की स्थापना की थी. कांग्रेस के रचित सेठ ने भारत के स्पेस पावर बनने के लिए नेहरू की दूरदर्शिता की सरहाना की. उन्होंने ट्वीट कर लिखा, ‘मोदीजी पंडित नेहरू के मिशन शक्ति की दूरदर्शी सोच को धन्यवाद देते हुए !’

कांग्रेस ने DRDO की सफलता के लिए जवाहरलाल नेहरू की उपलब्धियों को याद किया. आईएनसी ने ट्वीट किया कि डीआरडीओ पंडित जवाहरलाल नेहरू की अगुआई में 1958 रक्षा अनुसंधान और विकास के लिए स्थापित पहली सरकारी एजेंसी है. इसने हमारे रक्षा बलों को नई तकनीकी विकासों से लैस करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.

पहले देश DRDO की सफलता पर गर्व करता था लेकिन अब मोदी ने उसे मार्केटिंग में बदल दिया : साक्षी जोशी

वहीँ पत्रकार डॉ. पंकज श्रीवास्तव ने ट्वीट किया. उन्होंने मोदी सरकार पर राम मंदिर मुद्दे को लेकर तंज कसा. उन्होंने ट्वीट किया, ‘नेहरू जैसा नास्तिक अगर ISRO और DRDO बनाने में देश का पैसा बर्बाद न करता तो अब तक अंतरिक्ष में राम मंदिर बन गया होता.’

कुछ समय पहले बीजेपी राम मंदिर की राजनीती कर रही थी. लेकिन अब मामला शांत पड़ता दिख रहा है. चुनाव आने वाले हैं और सरकार के हाँथ अब कोई फैसला नहीं लिया जा सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twelve + five =