वरिष्ठ पत्रकार दिलिप मंडल ने गृह मंत्री अमित शाह के कैराना दौरे और उनके बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा “कैराना में “पलायन” का मामला BJP सांसद हुकुम सिंह ने उठाया था। लेकिन मरने से पहले श्री हुकुम सिंह 2017 में बता गए थे कि ये सांप्रदायिक मामला नहीं है। क़ानून और व्यवस्था का मामला है। अमित शाह  को शर्म आनी चाहिए कि चंद वोट के लिए अपनी पार्टी के दिवंगत सांसद की बात को झुठला रहे हैं।”

गौरतलब कि 22 जनवरी 2022 को ग्रह मंत्री अमित शाह ने उत्तर प्रदेश के कैराना में घर-घर जा कर विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार किया। इस दौरान उन्होंने कैराना से हिन्दुओं के कथित पलायन पर बयान देते हुए कहा “कैराना के लोगों ने कहा है कि हमे पलायन करना वाले खुद पलायन हो गए”

अमित शाह के इस बयान को गलत बताते हुए और भाजपा के ही वरिष्ठ दिवंगत नेता का हवाला देते हुए दिलीप मंडल ने शाह को आईना दिखाया है।

बता दें कि भाजपा कैराना से हिन्दुओं के कथित पलायन के लिए मुसलमानों और समाजवादी पार्टी के नेताओं को जिम्मेदार ठहराती आयी। इस चुनाव में भी समाजवादी और रालोद के गठबंधन के खिलाफ इस मुद्दे को खूब उछाला जा रहा है।

समाजवादी पार्टी के कैराना से उम्मीदवार नाहिद हसन को भाजपा हिन्दुओं के पलायन का जिम्मेदार बताती है। समाजवादी पार्टी द्वारा नाहिद हसन को दोबारा उम्मीदवार बनाए जाने पर भाजपा का कहना है कि सपा गुन्डों और दंगाइयों को टिकट देती है। भाजपा ने कैराना विधानसभा क्षेत्र से हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को प्रत्याशी घोषित किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

15 − eight =