गुजरात विधानसभा चुनाव के वक़्त हार्दिक पटेल का एक वीडियो जमकर वायरल हुआ था। इस वीडियो में हार्दिक एक महिला के साथ नज़र आ रहें थे जो उनकी निजी जिंदगी हिस्सा था। जबकि इस VIDEO में देखी महिला ने हार्दिक के खिलाफ कोई शिकायत भी नहीं की थी। मगर मीडिया ने इस मामले पर खूब शोर मचाया था, अब जब स्वामी चिन्मयानंद का वीडियो सामने आया तो मीडिया ने ऐसा मौन धारण किया जैसे कुछ हुआ ही नहीं हो।

यूपी के शाहजहांपुर की लॉ छात्रा ने सुप्रीम कोर्ट में बताया कि बीजेपी नेता और पूर्व गृह राज्‍य मंत्री स्वामी चिन्मयानंद ने ब्लैकमेल कर रेप किया है। पीड़िता का हॉस्टल के बाथरूम में नहाने का वीडियो बनाया गया और उस वीडियो को वॉयरल करने की धमकी देकर एक साल तक रेप करता रहा।

BJP नेता चिन्मयानंद के अश्लील वीडियो पर TV मीडिया चुप है, काश वो मौलाना होता : संजय सिंह

इसके साथ ही चिन्मयानंद ने शारीरिक शोषण का वीडियो भी बनाया और पीड़िता से मसाज करने का भी दबाव बनाता था, और कई बार उसके साथ बंदूक के दम पर भी रेप हुआ है। लड़की ने भी अपने बचाव के लिए चिन्मयानंद का वीडियो बनाया है। लड़की ने इसके लिए अपनी चश्मे में खुफिया कैमरा लगाया और चिन्मयानंद का वीडियो बनाया है।

पत्रकार अजीत अंजुम ने सोशल मीडिया पर लिखा मसाज मास्टर ‘नागा स्वामी’ के वायरल वीडियो पर वो सब सन्निपात के शिकार हैं ,जो एक लड़की के साथ हार्दिक पटेल के वीडियो पर छाती पीट रहे थे। ट्रेंड करा रहे थे , जबकि लड़की ने न कोई शिकायत की थी , न ही हार्दिक भगवाधारी स्वामी बनकर आश्रम चला रहे थे,ये सब ‘मौके’ की ताक में हैं।

विशेष जांच दल (SIT) ने पीड़ित लड़की के हॉस्टल का कमरा देखा और सुबूत जुटाए। एसआईटी दोपहर में कॉलेज परिसर पहुंची। टीम ने करीब पांच घंटे तक छात्रा के कमरे का बारीकी से निरीक्षण किया। टीम के साथ फॉरेंसिक विशेषज्ञ भी मौजूद रहे।पीड़िता जिस कमरे में रहती थी, पुलिस ने उसे सील किया हुआ था। एसआईटी ने उसकी सील तोड़ कर मौका मुआयना किया।

गौरतलब हो कि बीजेपी नेता और मोदी सरकार में मंत्री रहे स्वामी चिन्मयानंद पर लॉ की छात्रा द्वारा लगाए गए यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच होने के आदेश दिए थे।

1 साल तक रेप करता रहा चिन्मयानंद : छात्रा, सपा नेता बोली- इस बेटी के लिए कब बोलेंगी स्मृति ईरानी?

सुप्रीम कोर्ट ने योगी सरकार को आदेश देते हुए कहा कि सरकार इस मामले में एसआईटी (विशेष जांच दल) का गठन करे और चिन्मयानंद पर छात्रा द्वारा लगाए गए आरोपों की जांच करे, जांच की निगरानी इलाहाबाद हाईकोर्ट करेगा।

बता दें कि पिछले महीने 23 अगस्त को हॉस्टल से लापता हुई लॉ छात्रा ने स्वामी चिन्मयानंद पर शो षण के आरोप लगाए थे। छात्रा के पिता ने स्वामी चिन्मयानंद पर अपहरण और जान से मारने की धमकी देने का केस दर्ज कराया था। इसके बाद 30 अगस्त को राजस्थान में एक युवक के साथ मिली यहां पर एक न्यायाधीश ने उससे बातचीत की थी।

सुनवाई के दौरान पीड़िता के वकील ने कोर्ट को बताया कि उसे राजस्थान के दौसा में बरामद किया गया था। इसके बाद महिला वकील ने कोर्ट से गुजारिश की कि उसे पीड़िता से मिलना चाहिए।

इस दौरान छात्रा ने कहा था कि वह घर वापस जाना नहीं चाहती है और उसके परिजनों को भी दिल्ली बुला लिया जाए। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि छात्रा को सुरक्षा मुहैया कराई जाए।