jamia student
फोटो साभार- ABP News - Jamia Millia Islamia student Shahzad to Delhi police while protesting without clothes.
  • 405
    Shares

जामिया मिलिया इस्लामिया (Jamia Millia Islamia) यूनिवर्सिटी में पुलिस की बर्बरता के खिलाफ़ छात्रों का सत्याग्रह शुरु हो गया है। यहां यूनिवर्सिटी गेट के बाहर कड़ाके की ठंड में कुछ छात्र शर्ट उतारकर प्रदर्शन कर रहे हैं और जिस्म पर लगे पुलिस की बर्बरता के निशान दिखा रहे हैं।

इस प्रदर्शन की शुरुआत शहज़ाद (Shahzad) नाम के छात्र (Student) ने की है। शहज़ाद (Shahzad) आज सुबह से ही 10 डिग्री तापमान में शर्ट उतारे यूनिवर्सिटी गेट के बाहर बैठे हैं। उनकी पीठ पर कुछ ज़ख्मों के निशान नज़र आ रहे हैं। उनका कहना है कि ये निशान पुलिस के उस ज़ुल्म के हैं, जो उसने बीती रात यूनिवर्सिटी कैंपस में घुसकर ढ़ाए।

दिल्ली पुलिस, जामिया के साथ इतनी बर्बरता मत करो, आपकी बारी आएगी तो कोई साथ नहीं देगा

शहज़ाद ने बताया कि पुलिस ने बीती रात उसे अंधेरे में इसलिए पीटा ताकि पुलिस के ज़ुल्म लोगों की नज़र में ना आ सके। शहज़ाद ने पुलिस से अपील करते हुए कहा कि वह नंगी पीठ बैठा है, उसे दिन के उजाले में मारे।

हालांकि बाद में लोगों के समझाने के बाद शहज़ाद ने अपना शर्टलेस प्रदर्शन खत्म कर दिया है। शहज़ाद ने लाइब्रेरी में हिंसा करने वाले पुलिकर्मियों के खिलाफ़ कार्रवाई किए जाने की मांग की है। उनका कहना है कि जिन पुलिस वालों ने लाइब्रेरी में पढ़ाई कर रहे छात्रों पर लाठियां बरसाईं उन पुलिसवालों के खिलाफ़ सख़्त एक्शन लिया जाए। शहज़ाद ने ऐक्शन नहीं होने पर कल फिर प्रदर्शन की बात कही है।

CAB का उद्देश्य देश को अराजकता की आग में झोंककर कट्टर हिन्दूओं को खुश करना है : पूर्व IPS

बता दें कि जामिया के छात्र नागरिकता संशोधन कानून (CAB) के ख़िलाफ़ दो दिन से प्रदर्शन कर रहे हैं। (CAB) को वापस लिए जाने की मांग के साथ बीते कल भी छात्रों ने प्रदर्शन किया। इस दौरान यूनिवर्सिटी के आसपास के इलाकों में तोड़फोड़ और आगज़नी भी की गई। हालांकि छात्रों का कहना है कि उन्होंने कोई हिंसक प्रदर्शन नहीं किया। लेकिन इसके बावजूद पुलिस ने छात्रों के खिलाफ़ ही कार्रवाई शुरु कर दी और पुलिस यूनिवर्सिटी के कैंपस में घुस गई।

इस दौरान पुलिस ने लाइब्रेरी और मस्जिद तक में घुसकर छात्रों को बेरमसी से पीटा। हालंकि पुलिस इस बात से इनकार कर रही है कि उसने लाइब्रेरी में घुसकर छात्रों को पीटा। लेकिन इस मामले के कई वीडियो सामने आए हैं, जिसमें साफ़तौर पर पुलिस को लाइब्रेरी में छात्रों पर लाठियां बरसाते देका जा सकता है। पुलिस की इस बर्बर कार्रवाई में तकरीबन 60 छात्रों के घायल होने की ख़बर है। जिनमें कई छात्र इस तरह घायल हुए हैं कि उन्हें आईसीयू में रखा गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here