टी-20 में भारत का पाकिस्तान से मैच हार जाना महज़ खेल का हिस्सा नहीं है। इसपर जमकर राजनीति भी हो रही है। सोशल मीडिया पर लोग भारतीय क्रिकेटर मोहम्मद शमी को इस हार का जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। यहां तक कि वो उन्हें ‘गद्दार’ और ‘देशद्रोही’ भी बुला रहे हैं।

इसपर पूर्व क्रिकेटर इरफान पठान ने नाराजगी जताई है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, ” मैं भी इंडिया बनाम पाकिस्तान की लड़ाई में फील्ड पर था और हम हारे, लेकिन हमें कभी पाकिस्तान जाने के लिए नहीं कहा गया। मैं कुछ सालों पहले के भारत की बात कर रहा हूँ। इस बकवास को रोकने की ज़रूरत है।”

दरअसल, रविवार को भारत और पाकिस्तान के बीच टी-20 वर्ल्ड कप का मैच हुआ था। इसमें पाकिस्तान ने भारत को 10 विकटों से हराकर करारी शिकस्त दी। भारत और पाकिस्तान के बीच यह 200वां इंटरनैशनल मैच भी था। इसी के साथ भारत टी-20 वर्ल्ड कप में पहली बार पाकिस्तान से हारा है। मोहम्‍मद शमी के 3.5 ओवर में पाकिस्तान ने 43 रन बनाए थे।

इसके बाद सोशल मीडिया पर ट्रोल्स शमी पर तरह-तरह के आरोप लगाने लगे। कुछ ने तो यहां तक पूछ लिया कि ‘शमी को पाकिस्तान से मैच हरवाने के लिए कितने रुपए मिले’। शमी के खिलाफ इस नफरत की एक वजह उनका मुसलमान होना भी है। प्रधानमंत्री मोदी के ‘न्यू इंडिया’ में शमी देशभक्ति पर सवाल करने की वजह उनका धर्म भी है।

यही वजह है कि इरफान पठान ने कुछ साल पहले के भारत और अब के भारत की तुलना की है। उन्होंने “नए भारत” में फैली नफ़रत पर सवाल खड़े किए हैं।

अब सोशल मीडिया पर बहुत से लोग शमी के समर्थन में भी आ गए हैं। रेडियो जॉकी सायमा ने इरफान के ट्वीट को शेयर करते हुए लिखा, “हां, इस बकवास को बंद होने की ज़रूरत है”।

वीरेंद्र सहवाग ने कहा,”मोहम्मद शमी के खिलाफ ये ऑनलाइन हमला चौंकाने वाला है, हम उनके साथ खड़े हैं। वह एक चैंपियन है और जो कोई भी भारत की टोपी पहनता है, उसके दिलों में किसी भी ऑनलाइन भीड़ से कहीं अधिक भारत होता है। शमी हम आपके साथ हैं। अगले मैच में दिखादो जलवा।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

11 − seven =