प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता के लिए अच्छे दिन लाने का वादा किया था, साढ़े सात साल बाद निष्कर्ष निकल रहा है कि वो महंगे दिन ले आए हैं। लोग फल-सब्ज़ी जैसी रोजमर्रा की ज़रूरत वाली चीज़ों को खरीदने से पहले भी दो बार सोचने लगे हैं। सोशल मीडिया पर टमाटर की तुलना सोने से की जा रही है।

रिकॉर्ड-तोड़ने की इच्छुक मोदी सरकार ने पिछले साल बेरोज़गारी का रिकॉर्ड तोड़ने के बाद अब एक और नया रिकॉर्ड तोड़ दिया है। देश में होलसेल यानी थोक महंगाई 12 साल के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है। फ्यूल, सब्ज़ी, दूध और अंडे के दाम बढ़ने से आम आदमी की कमर टूट गई है।

मंगलवार को जारी हुए सरकारी डेटा के अनुसार, नवंबर महीने में थोक महंगाई दर पिछले महीने के 12.54 फीसदी से बढ़कर 14.2 फीसदी हो गई है। इस दर के बढ़ने का मतलब है कि उन चीज़ों का दाम भी बढ़ जाना जो थोक में बिकती हैं, जैसे- ईंधन और बिजली, दूध, अंडा, मांस, आलू, टमाटर और दूसरी सभी सब्ज़ियां।

ये भी पढ़ेंः बढ़ती महंगाई पर बोली कांग्रेस- PM मोदी ने सब्जियों पर धारा 144 लगा दी है, 4 से ज्यादा एकसाथ रसोई में नहीं रख सकते

खाने-पीने की चीजों वाली थोक महंगाई दर 3.06 फीसदी से बढ़कर 6.7 फीसदी हो गई है। फ्यूल एंड पावर की थोक महंगाई 45.8 फीसदी से बढ़कर 39.81 फीसदी हो गई है। इसी तरह दूध, आलू और दूसरी सब्ज़ियों के दामों में भी तेज़ी से इज़ाफ़ा हुआ है।

आप ये मत सोचिए कि ये महंगाई सीजनल है। भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने तो कह दिया है कि महंगाई दर में तेजी बनी रह सकती है। इसका मतलब लोग टमाटर खरीदते समय रोएंगे, अपनी गाड़ी में पेट्रोल/डीजल भरवाते समय रोएंगे, बिजली का बिल देखकर रोएंगे और क्या करे भी तो करे क्या?

ये भी पढ़ेंः लखीमपुर पर SIT का खुलासा : मंत्री अजय मिश्रा के बेटे ने योजना बनाकर की थी किसानों की हत्या, अब टेनी कब बर्खास्त होंगे ?

मोदी जी तो कहा करते थे, ”दिल्ली में बैठी कांग्रेस की सरकार महंगाई से त्राहि-त्राहि कर रही गरीब जनता के घाव पर नमक छिड़कने का काम कर रही है|” स्मृति ईरानी सड़कों पर सिलिंडर लेकर निकल जाती थीं, लेकिन अब सब मंदिर का राग अलाप रहे हैं। काशी विश्वनाथ कॉरिडोर उद्घाटन को इवेंट बना रहे हैं, मथुरा में तमाम कृष्णभक्तों को भड़का रहे हैं।

कहने को तो पीएम मोदी गरीब परिवार से आते हैं मगर अब उन्होंने गरीबों का खाना पीना और जीना दुश्वार कर दिया है। तेल और दाल जैसी बुनियादी चीजें रोज की जरूरत हैं, दोगुना से ज्यादा इनका दाम बढ़ गया है।

ऐसे में गरीब और मिडल क्लास जनता पूछ रही है, मोदीजी हमने क्या गुनाह किया है। आपके दोनों मित्र अंबानी और अडानी लाखों करोड़ के मालिक हो गए, और हमारा भरपेट खाना भी गुनाह हो गया है!

वीडियोः महंगाई दर हुई दोगुना! मोदीजी ये अच्छे दिन हैं या महंगे दिन?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one × 4 =