दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल द्वारा वरिष्ठ पत्रकार राजीव शर्मा को दिल्ली में स्थित उनके आवास से गिरफ्तार किया गया है।

जिन पर आरोप है कि उन्होंने चीन के लिए भारत की जासूसी की है। राजीव शर्मा ने चीन और भारत के बीच एलएसी पर चल रहे विवाद को लेकर भारतीय सेना की तैयारियों की जानकारी भी चीन को मुहैया करवाई है।

बताया जा रहा है कि 61 वर्षीय पत्रकार राजीव शर्मा के घर से पुलिस ने भारत से जुड़े कई खुफिया दस्तावेज बरामद किए हैं। बताया जा रहा है कि भारत की खुफिया एजेंसी की तरफ से स्पेशल सेल को जानकारी मिली थी कि दिल्ली के पीतमपुरा इलाके में राजीव शर्मा नाम का शख्स चीन के लिए जासूसी कर के अवैध तरीके से पैसे हासिल कर रहा है।

खुफिया एजेंसी से सूचना मिलने के बाद बीते कई महीने से दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल पत्रकार राजीव शर्मा और उनसे जुड़े लोगों पर नजर रख रही थी।

आपको बता दें कि राजीव शर्मा पीआईबी कार्ड धारक होने की वजह से मंत्रालय में आसानी से आता-जाता था। वहीँ से सूचना हासिल कर तीन अलग-अलग ई-मेलआइडी, वाट्सएप और टेलीग्राम के जरिये अंग्रेजी में लिखकर चीन भेजता था।

दिलचस्प बात यह है कि पत्रकार राजीव शर्मा पहले भारत के एनएसए अजीत डोभाल द्वारा स्थापित दक्षिणपंथी समूह, विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन से भी जुड़े हुए थे।

इस मामले में कांग्रेस नेता श्रीवत्स ने भारतीय जनता पार्टी और मोदी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि “कल्पना कीजिए कि चीन को खुफिया जानकारी देने वाला राजीव शर्मा अगर मुस्लिम होता तो मीडिया और भाजपा पूरे मुस्लिम समुदाय को राष्ट्र विरोधी करार कर देता और माफी की मांग करता। लेकिन अब, पिन-ड्रॉप चुप्पी, भले ही राजीव शर्मा ने डोभाल की वीआईएफ के लिए काम किया हो।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 − 13 =