बिहार के मुज़फ्फरपुर में चमकी बुखार से जारी बच्चों की मौत के सिलसिले के बीच एक चौंकाने वाली ख़बर सामने आई है। ख़बरों के मुताबिक, मुज़फ्फरपुर के जिस सरकारी अस्पताल श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (एसकेएमसीएच) में चमकी बुख़ार से बच्चों की मौतें हो रही हैं, उसके पीछे इंसानों के कंकाल पाए गए हैं।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, अस्पताल के पीछे नरकंकालों के कई टुकड़े पाए गए हैं। अस्पताल प्रशासन ने इस मामले को लेकर जांच कराने की बात कही है। अस्पताल की एक टीम ने कंकाल मिलने की जगह का निरीक्षण भी किया है। इस मामले की जांच की जा रही है।

ट्यूनीशिया में 11 बच्चों की मौत पर मंत्री इस्तीफ़ा दे देते हैं मगर भारत में PM-मंत्री पार्टी करते हैं

श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट एसके शाही ने कहा- ‘पोस्टमार्डम डिपार्टमेंट प्रिंसिपल के अंतर्गत आता है। मैं प्रिंसिपल से बात करुंगा और जांच के लिए कमेटी बनाने को कहूंगा।’

बता दें कि एसकेएमसीएच वही अस्पताल जहां चमकी बुख़ार से पीड़ित बच्चों का इलाज चल रहा है। अस्पताल में प्रतिदिन चमकी बुख़ार से बच्चों की मौत हो रही है। जानकारी के मुताबिक आज भी अस्तपाल में तीन बच्चों ने दम तोड़ दिया है और अब मौत का आंकड़ा 160 से ज्यादा हो गया है।

चमकी बुखार पर BJP सांसद राजीव प्रताप रूडी का बेतुका बयान, बोले- कहीं ये चीन की साजिश तो नहीं?

मरीजों के लिए बिस्तरों की कमी व डॉक्टरों के अभाव में हो रही बच्चों की मौत की वजह से ये अस्पताल कुछ वक्त से सवालों के घेरे में है। ऐसे में अस्पताल से नरकंकालों का मिलना अपने आप में सनसनी फैलाता है। सबसे दिलचस्प बात तो ये है कि ये नरकंकाल केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अस्पताल दौरे के बाद मिले हैं। ऐसे में इस मामले पर सवाल उठने लाज़मी हैं।