लोकसभा चुनाव में बीजेपी की बंपर जीत के बाद से ही देश के अल्पसंख्यकों को निशाना बनाने का दौर शुरु हो गया है। सड़कों पर जहां ग़रीब मुसलमानों के साथ मारपीट के मामले सामने आ रहे हैं वहीं सोशल मीडिया पर मुस्लिम बुद्धिजीवियों पर हमला किया जा रहा है।

न्यूज़ पोर्टल द वायर की सीनियर एडिटर आरफ़ा खानम शेरवानी इन दिनों दक्षिणपंथियों के निशाने पर हैं। उन्हें सोशल मीडिया पर बीजेपी समर्थकों और गोदी मीडिया के पत्रकारों द्वारा जमकर ट्रोल किया जा रहा है। आरफ़ा पर ये हमला उनके एक ट्वीट के लिए किया जा रहा है।

दरअसल, आरफा ने लोकसभा चुनाव के परिणाम आने से पहले ट्विटर पर एक ‘शेर’ पोस्ट किया था। इस शेर के ज़रिए उन्होंने उम्मीद जताई थी कि चुनाव के नतीजे बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में आएंगे। लेकिन ऐसा हुआ नहीं। लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने बंपर जीत दर्ज कर दी। जिसके बाद आरफ़ा को ट्विटर पर ट्रोल किया जाने लगा।

आरफा ने ट्विटर पर लिखा था, “इन अंधेरों का जिगर चीर के नूर आएगा, तुम हो फिरऔन, तो मूसा भी जरूर आएगा…”।

आरफा के इस ट्वीट को ग़लग संदर्भ में लिया गया और इसे आतंकी ज़ाकिर मूसा से जोड़ दिया गया। आरफा को ट्रोल करने वालों ने लिखना शुरु कर दिया कि ज़ाकिर मूसा को भारतीय सेना ने मार दिया है, जो अब वापस नहीं आ सकता। बता दें कि आरफा के ट्वीट के बाद ही आतंकी ज़ाकिर मूसा को भारतीय सेना ने एक ऑपरेशन में मार गिराया था।

जबकि आरफा के ट्वीट की बात करें तो उन्होंने अपने ट्वीट में जिस मूसा का ज़िक्र किया है, वह पैग़म्बर मूसा हैं। जिन्हें मुसलमान, ईसाई और यहूदी सभी पैग़म्बर मानते हैं। यानी यह साफ़ तौर पर तीन बड़े धर्मों की भावनाओं को आहत करने जैसा है। लेकिन जिस देश में बहुसंख्यवाद हावी हो रहा हो वहां शायद अल्पसंख्यकों की भावनाएं मायने नहीं रखतीं।

जब TV एंकर BJP प्रवक्ता बन गए हैं, तो इनका बहिष्कार करना सही है : संजय निरुपम

हैरानी की बात तो यह है कि आरफा के इस ट्वीट को मेनस्ट्रीम मीडिया के उन पत्रकारों ने भी ग़लत संदर्भ में पेश किया जो ख़ुद को निष्पक्ष दिखाने की कोशिश करते हैं। न्यूज़ 24 के एंकर मानक गुप्ता ने भी आरफा के ट्वीट को आतंकी ज़ाकिर मूसा से जोड़ते हुए इसपर प्रतिक्रिया दी।

मानक गुप्ता ने लिखा, “वो अब नहीं नहीं आ पाएगा। जो उससे मिलना चाहता है, ख़ुद भी ऊपर जाएगा। (वैसे मैडम ज़ाकिर मूसा की बात नहीं कर रही हैं”।

वहीं बीजेपी में शामिल हुए मेजर सुरेंद्र पूनिया ने लिखा, “मूसा नहीं आयेगा.. भारतीय सेना ने कल अंधेरे कe जिगर चीर के उसे 72 हूरों के पास भेज दिया! जय हिन्द”।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 + six =